पानी का पैसा किससे वसूलेगा बीएमसी     मंत्रालय में बन रहे आधार कार्ड     विभाग गठन के एक वर्ष बाद भी नहीं मिला स्टाफ :घुमक्कड़ विभाग में कर्मचारियों का अभाव     विभाग गठन के एक वर्ष बाद भी नहीं मिला स्टाफ :घुमक्कड़ विभाग में कर्मचारियों का अभाव     दुबारा टेंडर पर देना होगी केवल प्रोसेसिंग फीस     राज्य सरकार की पहल से महिलाओं में बढ़ेगा आत्मविश्वास: महाजन     भांडेर में सपा का कार्यकर्ता सम्मेलन:खोई जमीन हासिल करने की कवायद     पार्टी के बड़े नेताओं ने संभाला मोर्चा:राघौगढ़ फतह करने भाजपा ने लगाई पूरी ताकत     मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव देंगे प्रशासनिक कामकाज को रफ्तार      24 मीटर चौड़ी सड़क पर बन सकेंगे 30 मीटर ऊंचे भवन    ताजा खबरो के लिये पढ्ते रहें - dainiksandhyaprakash.com
 
 
  कुछ और खबरें

पितृभक्ति देख टूटा जेलर

बगदाद का एक बहुत नामी बादशाह था हारून रशीद। एक बार किसी कारण से वह अपने वजीर पर नाराज हो गया। उसने वजीर और उसके लड़के फजल को जेल में डलवा दिया।
वजीर को ऐसी बीमारी थी कि ठंडा पानी उसे हानि पहुंचाता था। उसे सबेरे हाथ-मुंह धोने के लिए गरम पानी आवश्यक था। लेकिन जेल में गरम पानी कहां से आता। वहां तो कैदियों को ठंडा पानी ही दिया जाता था।
फजल रोज शाम को लोटे में पानी भरकर लालटेन के ऊपर रख दिया करता था। रातभर में लालटेन की गर्मी से पानी गरम हो जाता था। उसी से उसके पिता हाथ-मुंह धोते थे।
उस जेल का जेलर बड़ा ही निर्दयी था। जब उसको पता लगा कि फजल अपने पिता के लिए लालटेन पर पानी गरम करता है तो उसने लालटेन वहां से हटवा दी। अब फजल के पिता को ठंडा पानी मिलने लगा। उससे उसकी बीमारी बढऩे लगी। फजल से पिता का कष्ट नहीं देखा गया। उसने एक उपाय किया।
शाम को वह लोटे में पानी भरकर अपने पेट से लोटा लगा लेता था। रातभर उसके शरीर की गरमी से लोटे का पानी कुछ न कुछ गरम हो जाता था। उसी पानी से वह सबेरे अपने पिता के हाथ-मुंह धुलाता था। लेकिन रातभर पानी भरा लोटा पेट से लगाए रहने के कारण फजल सो नहीं सकता था। नींद आने पर लोटे के पानी के गिर जाने का भय था।
जब जेलर को बालक फजल की इस पितृभक्ति का पता लगा तो उसका निर्दय हृदय भी दया से पिघल गया। उसने फजल के पिता को गरम पानी देने की व्यवस्था कर दी।
 
  Go Back

  More News
स्टेट हैंगर फिर बना सीएम का दफ्तर
शहर में शीतलहर
मुनिश्री पर हमले के विरोध में धरना
सारंग ट्राफी टूर्नामेंट में साहिल क्लब जीता
पितृभक्ति देख टूटा जेलर
टीवी से कभी दूर नहीं रही : रक्षंदा खान
    Previous Next
 

Home | About Us | Feedback | Contact Us | Disclaimer | Advertisement

� Copyright 2011-12, Dainik Sandhya Prakash | Website developed & hosted by - eWay Technologies