पीडब्ल्यूडी और पीएचई को मिलेगा इनकम टैक्स का नोटिस!     लालटेन काण्ड में वर्षों पहले किया था निलंबित:दागी को तकनीकी प्रमुख बनाने की तैयारी     वार्ड आरक्षण का फैसला 13 को:कोलार के पार्षदों की धड़कनें बढ़ीं     कॉलेजों में जमा न करें मूल दस्तावेज:दलालों के बहकावे में न आएं विद्यार्थी     सुरक्षा के नहीं कोई इंतजाम:तेज बारिश में कहर ढाएगी अयोध्या की खंती     कल से चलेगा पोस्टर अभियान:मुख्यमंत्री से पानी मांगेंगे कोलारवासी     सपा की युवजन सभा शीघ्र घोषित करेगी प्रकोष्ठ की कार्यकारिणी     महिला संबंधी अपराधों पर सजग पुलिस:आईजी स्तर के अधिकारी करेंगे मॉनीटरिंग     विधानसभा का घेराव करेंगे प्रदेश भर के माली :आठ सूत्रीय मांगों को लेकर देंगे धरना     डॉक्टरों ने जताया विरोध, सीएम से करेंगे मुलाकात:आईएएस अधिकारी बनेगा हेल्थ डायरेक्टर    ताजा खबरो के लिये पढ्ते रहें - dainiksandhyaprakash.com
 
 
  कुछ और खबरें

शनि देव की कहानी

एक समय सभी नवग्रहों: सूर्य, चंद्र, मंगल, बुद्ध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु में विवाद छिड़ गया, कि इनमें सबसे बड़ा कौन है? सभी आपस में लडऩे लगे, और कोई निर्णय न होने पर देवराज इंद्र के पास निर्णय कराने पहुंचे. इंद्र इससे घबरा गये और इस निर्णय को देने में अपनी असमर्थता जतायी। परन्तु उन्होंने कहा, कि इस समय पृथ्वी पर राजा विक्रमादित्य हैं, जो कि अति न्यायप्रिय हैं, वे ही इसका निर्णय कर सकते हैं। सभी ग्रह एक साथ राजा विक्रमादित्य के पास पहुंचे, और अपना विवाद बताया साथ ही निर्णय के लिये कहा। राजा इस समस्या से अति चिंतित हो उठे, क्योंकि वे जानते थे, कि जिस किसी को भी छोटा बताया, वही कुपित हो उठेगा। तब राजा को एक उपाय सूझा। उन्होंने सुवर्ण, रजत, कांस्य, पीतल, सीसा, रांगा, जस्ता, अभ्रक और लौह से नौ सिंहासन बनवाये, और उन्हें इसी क्रम से रख दिया। फिर उन सबसे निवेदन किया, कि आप सभी अपने अपने सिंहासन पर स्थान ग्रहण करें। जो अंतिम सिंहासन पर बठेगा, वही सबसे छोटा होगा। इस अनुसार लौह सिंहासन सबसे बाद में होने के कारण, शनिदेव सबसे बाद में बैठे। तो वही सबसे छोटे कहलाये। उन्होंने सोचा, कि राजा ने यह जानबूझ कर किया है। उन्होंने कुपित हो कर राजा से कहा राजा! तू मुझे नहीं जानता। सूर्य एक राशि में एक महीना, चंद्रमा सवा दो महीना दो दिन, मंगल डेढ़ महीना, बृहस्पति तेरह महीने, व बुद्ध और शुक्र एक एक महीने विचरण करते हैं। परन्तु मैं ढाई से साढ़े-सात साल तक रहता हूं। बड़े-बड़ों का मैंने विनाश किया है। श्री राम की साढ़े साती आने पर उन्हें वनवास हो गया, रावण की आने पर उसकी लंका को बंदरों की सेना से परास्त होना पड़ा। अब तुम सावधान रहना। ऐसा कहकर कुपित होते हुए शनिदेव वहां से चले। अन्य देवता खुशी-खुशी चले गये। कुछ समय बाद राजा की साढ़े साती आयी। तब शनि देव घोड़ों के सौदागर बनकर वहां आये। उनके साथ कई बढिय़ा घड़े थे। राजा ने यह समाचार सुन अपने अश्वपाल को अच्छे घोड़े खरीदने की आज्ञा दी। उसने कई अच्छे घोड़े खरीदे व एक सर्वोत्तम घोड़े को राजा को सवारी हेतु दिया। राजा ज्यों ही उस पर बैठा, वह घोड़ा सरपट वन की ओर भागा। भीषण वन में पहुंच वह अंतध्र्यान हो गया, और राजा भूखा प्यासा भटकता रहा। तब एक ग्वाले ने उसे पानी पिलाया। राजा ने प्रसन्न होकर उसे अपनी अंगूठी दी। वह अंगूठी देकर राजा नगर को चल दिया, और वहां अपना नाम उज्जैन निवासी वीका बताया। वहां एक सेठ की दुकान उसने जल इत्यादि पिया और कुछ विश्राम भी किया। भाग्यवश उस दिन सेठ की बड़ी बिक्री हुई। सेठ उसे खाना इत्यादि कराने खुश होकर अपने साथ घर ले गया। वहां उसने एक खूंटी पर देखा, कि एक हार टंगा है, जिसे खूंटी निगल रही है। थोड़ी देर में पूरा हार गायब था। तब सेठ ने आने पर देखा कि हार गायब है। उसने समझा कि वीका ने ही उसे चुराया है। उसने वीका को कोतवाल के पास पकड़वा दिया। फिर राजा ने भी उसे चोर समझ कर हाथ-पैर कटवा दिये। वह चैरंगिया बन गया और नगर के बाहर फिंकवा दिया गया। वहां से एक तेली निकल रहा था, जिसे दया आयी, और उसने वीका को अपनी गाड़ी में बिठा लिया। वह अपनी जीभ से बैलों को हांकने लगा।
उस काल राजा की शनि दशा समाप्त हो गयी। तब वह जिस नगर में था, वहां की राजकुमारी मनभावनी को वह इतना भाया, कि उसने मन ही मन प्रण कर लिया, कि वह उस राग गाने वाले से ही विवाह करेगी। उसने दासी को ढूंढने भेजा। दासी ने बताया कि वह एक चौरंगिया है। परन्तु राजकुमारी ना मानी। अगले ही दिन से उठते ही वह अनशन पर बैठ गयी, कि विवाह करेगी तो उसी से। उसे बहुत समझाने पर भी जब वह ना मानी, तो राजा ने उस तेली को बुला भेजा, और विवाह की तैयारी करने को कहा। फिर उसका विवाह राजकुमारी से हो गया। तब एक दिन सोते हुए स्वप्न में शनिदेव ने राजा से कहा राजा, देखा तुमने मुझे छोटा बता कर कितना दु:ख झेला है। तब राजा ने उससे क्षमा मांगी, और प्रार्थना की, कि हे शनिदेव जैसा दु:ख मुझे दिया है, किसी और को ना दें। शनिदेव मान गये, और कहा जो मेरी कथा और व्रत कहेगा, उसे मेरी दशा में कोई दु:ख ना होगा। जो नित्य मेरा ध्यान करेगा, और चींटियों को आटा डालेगा, उसके सारे मनोरथ पूर्ण होंगे। साथ ही राजा को हाथ पैर भी वापस दिये। प्रात: आंख खुलने पर राजकुमारी ने देखा, तो वह आश्चर्यचकित रह गई। वीका ने उसे बताया, कि वह उज्जैन का राजा विक्रमादित्य है। सभी अत्यंत प्रसन्न हुए। सेठ ने जब सुना, तो वह पैरों पर गिरकर क्षमा मांगने लगा। राजा ने कहा, कि वह तो शनिदेव का कोप था। इसमें किसी का कोई दोष नहीं। सेठ ने फिर भी निवेदन किया, कि मुझे शांति तब ही मिलेगी जब आप मेरे घर चलकर भोजन करेंगे। सेठ ने अपने घर नाना प्रकार के व्यंजनों ने राजा का सत्कार किया। साथ ही सबने देखा, कि जो खूंटी हार निगल गयी थी, वही अब उसे उगल रही थी। सेठ ने अनेक मोहरें देकर राजा का धन्यवाद किया, और अपनी कन्या श्रीकंवरी से पाणिग्रहण का निवदन किया। राजा ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। कुछ समय पश्चात राजा अपनी दोनों रानियों मनभावनी और श्रीकंवरी को लेकर उज्जैन नगरी को चले। वहां पुरवासियों ने सीमा पर ही उनका स्वागत किया। सारे नगर में दीपमाला हुई, व सबने खुशी मनायी। राजा ने घोषणा की, कि मैंने शनि देव को सबसे छोटा बताया था, जबकि असल में वही सर्वोपरि हैं। तब से सारे राज्य में शनिदेव की पूजा और कथा नियमित होने लगी। सारी प्रजा ने बहुत समय खुशी और आनंद के साथ बीताया। जो कोई शनि देव की इस कथा को सुनता या पढ़ता है, उसके सारे दु:ख दूर हो जाते हैं। व्रत के दिन इस कथा को अवश्य पढऩा चाहिये।
 
  Go Back

  More News
मोदी ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस से की अपनी तुलना
शनि देव की कहानी
सालाना ऑडिट रिपोर्ट भी संदेह के घेरे में
दिग्विजय का मध्य प्रदेश की राजनीति में बढ़ता दखल
शटलरों से उलटफेर की उम्मीद
विद्या को टक्कर देंगी राखी और वीना
    Previous Next
 

Home | About Us | Feedback | Contact Us | Disclaimer | Advertisement

Copyright 2011-12, Dainik Sandhya Prakash | Website developed & hosted by - eWay Technologies