सचिन को भारत रत्न के खिलाफ याचिका मप्र हाईकोर्ट में मंजूर

 

जबलपुर : मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने उस याचिका को स्वीकार कर लिया है जिसमें कथित तौर पर सम्मान की ‘प्रतिष्ठा’ का इस्तेमाल ‘व्यावसायिक उत्पादों का प्रचार करके पैसा कमाने’ पर महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को दिए भारत रत्न को वापस लेने की मांग की गई है।

मुख्य न्यायाधीश ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति के.के. त्रिवेदी की पीठ ने कल सहायक सालीसिटर जनरल को निर्देश दिया कि वह पता करें कि क्या भारत रत्न हासिल करने वालों के लिए उच्चतम न्यायालय के कुछ दिशानिर्देश (क्या करें और क्या नहीं) हैं या नहीं और एक हफ्ते में जवाब दें।

याचिकाकर्ता भोपाल निवासी वीके नासवाह ने कहा कि तेंदुलकर काफी लोकप्रिय है क्योंकि क्रिकेट में देश के लिए कई विश्व रिकार्ड बनाए हैं। नासवाह ने तेंदुलकर पर आरोप लगाया कि उन्होंने देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान की ‘प्रतिष्ठा’ का इस्तेमाल करके व्यावसायिक उत्पादों का प्रचार किया और पैसा कमाया जो सर्वोच्च नागरिक सम्मान की मर्यादा, विरासत और सिद्धांतों के खिलाफ है।

नासवाह ने कहा कि तेंदुलकर को नैतिक आधार पर यह पुरस्कार लौटा देना चाहिए और अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो केंद्र सरकार को उनसे यह सम्मान छीन लेना चाहिए। तेंदुलकर अवीवा लाइफ इंश्योरेंस, बूस्ट, एमआरएफ, ल्यूमिनस और रीयल्टी फार्म अमित एंटरप्राइज सहित 12 से अधिक ब्रांड का प्रचार करते हैं।