सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया कर्मचारी के हक में फैसला:240 दिन काम तो समझो नौकरी पक्की     डाउ केमिकल कंपनी की स्पांसरशिप रद्द हो : दवे     परिषद के लिए कांग्रेस जारी कर सकती है व्हीप:नए कर प्रस्ताव के विरोध के चलते लेना पड़ेगा निर्णय     सरकार खरीद रही है:478 करोड़ का विदेशी कोयला     भाजपा का मिशन 2013 :निधि मिलने से जिला पंचायत अध्यक्ष गदगद      समयपाल महासंघ का प्रांतीय अधिवेशन कल:जनप्रतिनिधियों को सौपेंगे मांगों का ज्ञापन     स्थाई समिति को दे चुका संशोधन प्रस्ताव:भूमि अधिग्रहण विधेयक में संशोधन पर अड़ा किसान संघ     मोबाइल घोटाला:आयुक्त ने भांजे की कंपनी से कर डाली लाखों की खरीदी     कांग्रेस ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा:15 के बाद जमा मतदाता परिचय पत्र के फार्म निरस्त किए जाएं      विधानसभा की कार्यवाही में नहीं लेते रुचि:लंच के बाद गायब हो जाते मंत्री-विधायक    ताजा खबरो के लिये पढ्ते रहें - dainiksandhyaprakash.com
 
 
  कुछ और खबरें

अपने फर्ज से मुंह न मोड़ें कभी

दुख क्यों आते हैं, सुख कैसे मिलते हैं? ये सवाल हर इंसान के लिए पहेली है। कई बार अच्छा काम करते-करते भी परिणाम बुरा हो जाता है, कई बार हमारे साथ बुरा होने पर भी परिणाम सुखद होता है। हम परिणाम कैसा चाहते हैं, ये हमारे ऊपर ही निर्भर होता है। अगर सच से न हटें, अपना नैतिक पतन न होने दें तो रिजल्ट कभी हमारे खिलाफ नहीं होगा।
महाभारत की एक कहानी हमें नैतिक बल का सबक सिखाती है। अगर हम अपने धर्म पर, कर्तव्य और सत्य पर टिके रहें तो शाप भी वरदान बन जाता है। बात पांडवों के वनवास की है। जुए में हारने के बाद पांडवों को बारह वर्ष का वनवास और एक साल का अज्ञातवास गुजारना था। वनवास के दौरान अर्जुन ने दानवों से युद्ध में देवताओं की मदद की। इंद्र उन्हें पांच साल के लिए स्वर्ग ले गए। वहां अर्जुन ने सभी तरह के अस्त्र-शस्त्र की शिक्षा हासिल की। गंधर्वों से नृत्य-संगीत की शिक्षा ली। अर्जुन का प्रभाव और रूप देखकर स्वर्ग की प्रमुख अप्सरा उर्वशी उस पर मोहित हो गई। स्वर्ग के स्वच्छंद रिश्तों और परंपरा का लोभ दिखाकर उर्वशी ने अर्जुन को रिझाने की कोशिश की। लेकिन उर्वशी अर्जुन के पिता इंद्र की सहचरी भी थी, सो अप्सरा होने के बावजूद भी अर्जुन उर्वशी को माता ही मानते थे। अर्जुन ने उर्वशी का प्रस्ताव ठुकरा दिया। खुद का नैतिक पतन नहीं होने दिया लेकिन उर्वशी इससे क्रोधित हो गई।
उर्वशी ने अर्जुन से कहा तुम स्वर्ग के नियमों से परिचित नहीं हो। तुम मेरे प्रस्ताव पर नपुंसकों की तरह ही बात कर रहे हो, सो अब से तुम नपुंसक हो जाओ। उर्वशी शाप देकर चली गई। जब इंद्र को इस बात का पता चला तो अर्जुन के धर्म पालन से वे प्रसन्न हो गए। उन्होंने उर्वशी से शाप वापस लेने को कहा तो उर्वशी ने कहा शाप वापस नहीं हो सकता लेकिन मैं इसे सीमित कर सकती हूं। उर्वशी ने शाप सीमित कर दिया कि अर्जुन जब चाहेंगे तभी यह शाप प्रभाव दिखाएगा और केवल एक वर्ष तक ही उसे नपुंसक होना पड़ेगा। यह शाप अर्जुन के लिए वरदान जैसा हो गया। अज्ञात वास के दौरान अर्जुन ने विराट नरेश के महल में किन्नर वृहन्नलला बनकर एक साल का समय गुजारा, जिससे उसे कोई पहचान ही नहीं सका।
 
  Go Back

  More News
बच्चा बचाओ...
अपने फर्ज से मुंह न मोड़ें कभी
हास-परिहास
सांप एक बार ही डसता है लेकिन...
डीजीसीए की अनुमति के इंतजार में
साहब बीवी और गैंगस्टर ने बनाई पहचान: श्रेया
    Previous Next
 

Home | About Us | Feedback | Contact Us | Disclaimer | Advertisement

Copyright 2011-12, Dainik Sandhya Prakash | Website developed & hosted by - eWay Technologies