इस हार को भुलाकर अब फोकस कांस्य पदक पर : भारतीय कोच
By dsp bpl On 9 Dec, 2017 At 02:02 PM | Categorized As खेल | With 0 Comments

भुवनेश्वर। रियो ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना से हाकी विश्व लीग फाइनल के सेमीफाइनल में मिली हार को निराशाजनक बताते हुए भारतीय हाकी टीम के कोच शोर्ड मारिन ने कहा कि इससे उबरकर अब टीम को पूरा फोकस कांस्य पदक के मुकाबले पर करना है। अर्जेंटीना ने तेज बारिश के बीच खेले गए मैच में भारत को 1-0 से हराकर पदक का रंग बेहतर करने का मेजबान का सपना तोड़ दिया। मारिन ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा,‘‘ मैं यह मैच दोबारा कभी नहीं देखूंगा जबकि मैं सारे मैच देखता हूं। इसका कारण यह है कि हालात अलग थे और हमारी क्षमता की यह असल परीक्षा नहीं थी।

मैं अर्जेंटीना से सामान्य हालात में खेलकर देखना चाहूंगा कि हम उन्हें हरा सकते हैं या नहीं। आज हालात अलग थे और वे हमसे बेहतर थे।’’ उन्होंने कहा कि उन्हें खिलाड़ियों का ध्यान इस हार पर से हटाकर रविवार को होने वाले कांस्य पदक के मुकाबले पर केंद्रित करना है जो जर्मनी और आस्ट्रेलिया के बीच दूसरे सेमीफाइनल में हारने वाली टीम से होगा। उन्होंने कहा ,‘‘जीत के साथ हमें हार के बाद के हालात से भी निपटना आना चाहिये। हम ज्यादा देर तक इसे जेहन में बनाये नहीं रख सकते। हमें अगले मैच पर फोकस करना है और आज खिलाड़ियों से मैं यही कहूंगा क्योंकि अभी भी हम कांस्य पदक जीत सकते हैं।’’

मारिन ने कहा कि हार के बावजूद वह टीम के प्रदर्शन से निराश नहीं है। उन्होंने कहा ,‘‘ पेनल्टी कार्नर, गेंद पर नियंत्रण, सर्कल में सेंध लगाने के मामले में हम आगे थे। हमें यह नहीं भूलना चाहिये कि हमारा मुकाबला ओलंपिक चैम्पियन और दुनिया की नंबर एक टीम से था। उन्हें हमने सिर्फ एक पेनल्टी कार्नर गंवाया जो अच्छा प्रदर्शन कहा जायेगा।’’

टूर्नामेंट के शेड्यूल को लेकर अर्जेंटीना की नाराजगी के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा,‘‘ मैं उनके बारे में टिप्पणी नहीं कर सकता। यह मेरा काम नहीं है।’’ उन्होंने हालांकि स्वीकार किया कि बारिश के कारण खेलने के लिये हालात काफी कठिन थे। उन्होंने कहा ,‘‘ हालात कठिन थे और दोनों टीमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सकी। लेकिन मुश्किलात दोनों टीमों के लिये बराबर थी और हमें उसी में तालमेल बिठाना था।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>