जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के फार्म को और सरल किया जायेगा: सुशील
By dsp bpl On 2 Nov, 2017 At 12:40 PM | Categorized As व्यापार | With 0 Comments

पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने जीएसटी नेटवर्क में आ रही दिक्कतों को जानने के लिए आयोजित एक बैठक को संबोधित करते हुये कहा कि रिटर्न दाखिल करने के फार्म को और सरल किया जायेगा। जीएसटी नेटवर्क में आ रही दिक्कतों को जानने के लिए पुराना सचिवालय के मुख्य सभा कक्ष में राज्य के सभी जिलों के 2-2 व्यापारिक व उद्यमी संगठनों के 100 से अधिक प्रतिनिधियों की 3 घंटे तक चली बैठक को सम्बोधित करते हुए सुशील कुमार मोदी ने कहा कि आने वाले दिनों में कम्पोजिट स्कीम में शामिल व्यापारियों के टर्न ओवर की सीमा डेढ़ करोड़ तक की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि सैद्धांतिक रूप से इस पर सहमति बनी है। निबंधन में संशोधन के लिए कोर और नान कोर क्षेत्र में सुविधा प्रारंभ कर दी गई है। इस मौके पर उन्होंने प्रतिनिधियों के सुझावों को सुना। सुशील मोदी ने कहा कि जीएसटी लागू होने के पहले महीने बिहार के 1 लाख 85 हजार करदाताओं में से 1 लाख 35 हजार यानी 72 प्रतिशत ने रिटर्न दाखिल किया जबकि अगस्त में 55 और सितम्बर में मात्र 41 प्रतिशत ही रिटर्न दाखिल कर पाए। उन्होंने कहा कि रिटर्न दाखिल करने के फार्म को और सरल किया जायेगा। विलम्ब शुल्क को समाप्त कर दिया गया है तथा जुलाई, अगस्त और सितम्बर तक का शुल्क वापस हो जायेगा।

सुशील ने कहा कि जीएसटी-2 आफलाइन वर्जन के अन्तर्गत करदाता बगैर इंटरनेट कनेक्टिविटी के जीएसटीआर-2 का मिलान कर सकते हैं एवं उसे स्वीकार, अस्वीकार या संशोधन के बाद इंटरनेट उपलब्ध होने पर अपलोड कर सकते हैं। सुशील ने कहा कि 20 लाख तक के सेवा प्रदाता को अन्तर राज्य कर योग्य सेवा के बावजूद निबंधन की जरूरत नहीं होगी।उन्होंने कहा कि जीएसटी दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है जिसके अन्तर्गत एक घंटे में एक लाख तो एक दिन में 12 लाख तक रिटर्न दाखिल हुआ है। सुशील ने कहा कि 37 राज्यों, केन्द्र शासित प्रदेशों व केन्द्र की वैट प्रणाली को जीएसटी के अन्तर्गत एक जगह समेकित किया गया है। जीएसटी परिषद के करदाताओं को हर संभव राहत देने के लिए प्रयासरत है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>