सेना की बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का शीर्ष कमांडर ‘ओसामा’ ढेर
By dsp bpl On 15 Oct, 2017 At 10:56 AM | Categorized As भारत | With 0 Comments

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों के साथ हुई मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का शीर्ष कमांडर वसीम शाह और उसका एक साथी मारा गया। वसीम को दक्षिण कश्मीर में पिछले साल फैली अशांति का मास्टरमाइंड माना जाता था। शाह (23) उर्फ ‘अबू ओसामा भाई’ को पुलवामा के लित्तर इलाके में मार गिराया गया। यह जगह आंतकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह मानी जाती है।

लित्तर में पिछले चार साल में यह पहला आतंकवाद रोधी अभियान है। जम्मू -कश्मीर पुलिस शाह की गतिविधियों पर नजर रखे हुए थी। उसे “हेफ्फ का डॉन’ भी कहा जाता था। यह जगह दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में है जिसे आतंकवादियों का एक और पारंपरिक गढ़ माना जाता है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि यह सूचना मिलने के बाद कि शाह लित्तर इलाके में छिपा हुआ है, पुलिस तथा उसके विशेष अभियान समूह ने इलाके की घेराबंदी की। उन्होंने बताया कि शाह और उसके अंगरक्षक निसार अहमद मीर ने वहां से भागने की कोशिश की लेकिन वह घेराबंदी को नहीं तोड़ पाया जो सीआरपीएफ और सेना की मौजूदगी से और मजबूत हो गई थी।

सुरक्षाबलों ने कई आंतकी मामलों में वांछित शाह और इस साल मई में आतंकवादियों से जुड़े स्थानीय लड़के निसार को मार गिराया। शोपियां के हेफ्फ-श्रीमाल निवासी शाह वर्ष 2014 में आंतकवादी समूह में शामिल हुआ था और उसे पिछले साल दक्षिण कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में फैली अशांति का ‘मास्टरमाइंड ’ माना जाता था। पुलिस ने बताया कि शाह स्कूल के दिनों से ही लश्कर-ए-तैयबा आतंकी समूह का सक्रिय समर्थक था और उसने समूह के लिए संवाहक (कुरियर ब्वॉय) के तौर पर भी काम किया।

शाह इस आतंकी संगठन के लिए नए लोगों की भर्ती कर रहा था। उसके सिर पर 10 लाख रुपये का नकद इनाम था।पुलिस ने बताया कि वह दक्षिण कश्मीर में सुरक्षाबलों पर हुए कई हमलों में शामिल था।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>