यूपी के शामली में शुगर मिल के केमिकल से निकली गैस से 500 बच्चे बेहोश
By dsp bpl On 10 Oct, 2017 At 02:58 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

शामली। शुगर मिल के वेस्टेज को नष्ट करने को डाले गए केमिकल से निकली गैस ने शामली में कोहराम मचा दिया। इसकी चपेट में आकर स्कूल जाने को निकले पांच से अधिक बच्चे बेहोश हो गए हैं। 30 की हालत गंभीर है। गैस से सरस्वती विद्या मंदिर व सरस्तवी जुनियर हाई स्कूल के पांच सौ से ज्यादा बच्चे बेहोश हो गए। इससे कोहराम मच गया। सभी बेहोश व बीमार बच्चों को जिला अस्पताल, सीएचसी व निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। बच्चों के बेहोश होकर अस्पताल में भर्ती होने से अभिभावकों में हाहाकार मचा है। किसी बच्चे को जानी नुकसान की सूचना अभी तक नहीं मिली है। फिलहाल बच्चों के इलाज में प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग अधिकारी जुटे हैं।

मंगलवार सुबह दोनों स्कूल के बच्चे जा रहे थे। इसी दौरान शुगर मिल के कर्मचारी वेस्टेज को नष्ट करने के उस पर केमिकल डाल रहे थे। केमिकल से निकली गैस से बच्चों दिक्कत होने लगी। इसके प्रभाव से कुछ बच्चे रास्ते तो कुछ स्कूल में जाकर बेहोश हो गए। गैस स्कूल तक भी पहुंच गयी। दोनों स्कूल के पांच सौ से ज्यादा बेहोश होकर गिर गए। इससे स्कूल में अफरा-तफरी मच गयी। शामली के बुढ़ाना रोड पर शुगर मिल का बॉयलर है। यहां डिस्टलरी व शुगर मिल से निकली वेस्टेज को सड़क किनारे डाला जाता है। यहां पास में ही डिस्टरी का गंदा पानी एकत्र कर उसे रिसाइकिलिंग किया जाता है। इसी रोड पर सरस्वती विद्या मंदिर व सरस्वती जुनियर हाई स्कूल है।

तत्काल पूरे मामले की सूचना अभिभावकों व अधिकारियों को दिया गया। गाडिय़ों में बच्चों को लेकर स्कूल के टीचर जिला अस्पताल व सीएचसी पहुंच। यहां उनका उपचार शुरू किया गया। बच्चों की संख्या ज्यादा होने पर तत्काल अन्य डॉक्टरों को बुलाया गया। बाद में बच्चों को निजी अस्पताल रेफर किया गया। बच्चों के बेहोश होने की सूचना पर अभिभावक स्कूल व अस्पताल की और दौड़े। इससे यहां चीख पुकार का माहौल है। अभिभावकों ने मिल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा किया। फिलहाल बच्चों का उपचार जारी है। प्रशासनिक, पुलिस व शिक्षा विभाग के अधिकारी पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। बच्चों के उपचार के बंदोबस्त किए गए है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>