हनीप्रीत ने देशद्रोह के आरोपों को नकारा, कर सकती है सरेंडर
By dsp bpl On 3 Oct, 2017 At 12:41 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

चंडीगढ़। पंचकूला हिंसा में मुख्य आरोपियों में शामिल हनीप्रीत ने मंगलवार की सुबह एक निजी चैनल को साक्षात्कार दिया। जिसमें हनीप्रीत ने अपने पर लगे देशद्रोह सहित सभी आरोपों को एक सिरे से नकार दिया। हनीप्रीत ने अपने और गुरमीत राम रहीम को बेगुनाह बताया है। हनीप्रीत ने कहा कि वह न्याय के लिए पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में गुहार लगायेगी। यही नहीं हनीप्रीत ने पूरे प्रकरण में सुरक्षाबलों पर कई प्रकार के सवाल उठाएं हैं।

अपने साक्षात्कार में हनीप्रीत ने पंचकूला हिंसा में अपनी भूमिका को एक सिरे से नकार दिया। हनीप्रीत ने कहा कि 25 अगस्त को पंचकूला की सीबीआई कोर्ट में पुलिस और सुरक्षाबलों की मौजूदगी में गयी थी। जब फैसला आया तो उसके बाद मुझे और गुरमीत राम रहीम को हेलीकॉप्टर में बैठाकर रोहतक भेज दिया गया। ऐसे में जब मैं सुरक्षाबलों और पुलिस की निगरानी में थी। तो पंचकूला हिंसा में मेरी उपस्थिति और भूमिका कहां थी। यही नहीं हनीप्रीत ने कहा कि पंचकूला हिंसा में डेरा प्रेमी नहीं बल्कि कुछ शरारती तत्वों ने अंजाम दिया है। इसके साथ ही हनीप्रीत ने पुलिस के सामने आत्मसर्पण करने के बारे में कहा कि वह न्याय में पूरा विश्वास रखती है। वह जल्द ही पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में न्याय के लिए दरवाजा खटखटायेगी। इसके के लिए वह कानूनी सलाह ले रही है। हनीप्रीत और गुरमीत राम रहीम के कथित बेटी व बाप के रिश्तों पर उठ रहे रिश्तों पर सवालों पर हनीप्रीत स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि उनके रिश्ते को गलत तरीके से पेश किया गया है। यही नहीं उन्होंने इस रिश्ते पर सवाल उठाने वालों की भूमिका को भी कटघरे में खड़ा किया।

गौरतलब है कि पंचकूला हिंसा में हनीप्रीत को पुलिस ने मुख्य आरोपियों में शामिल किया है। हनीप्रीत पर देशद्रोह का केस दर्ज है। हनीप्रीत ने दिल्ली हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका लगाया था। जिसे कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया था। हाईकोर्ट ने हनीप्रीत को आत्मसर्पण करने को कहा था। इसके बाद से ही हनीप्रीत ने सरेंडर करने का दबाव है। हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को पकड़ने के लिए लुक आउट नोटिस जारी किया है। सूत्रों के अनुसार हनीप्रीत सरेंडर कर सकती है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>