हम अलग संस्कृति के हैं, हमारे लिए वोट नहीं सबसे बड़ा देश : नरेन्द्र मोदी
By dsp bpl On 23 Sep, 2017 At 01:14 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

वाराणसी। दो दिवसीय काशी प्रवास के अन्तिम दिन शनिवार को प्रधानमंत्री ने देश को आरोग्य बनाने के लिए स्वच्छता का मंत्र दिया। 11वीं बार अपने संसदीय क्षेत्र में लगभग एक हजार करोड़ की 17 परियोजनाओं का लोकापर्ण और पांच का शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री ने स्वच्छता अभियान को नया धार दिया।

पूर्ववर्ती सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राजनीति की एक स्वभाव होती है। वह उसी काम को पसन्द करता है जिसमें उसे वोटों की सम्भावना दिखती है। वह वोटबैंक मजबुत करने वाला कार्य करता है। लेकिन हम अलग संस्कृति के । हमारे लिए सबसे बड़ा देश है। हमारी प्राथमिकता वोटों से तय नहीं होती।

पशुओं के लिए आरोग्य मेले के आयोजन की जमकर सराहना के बाद कहा कि आजादी के 75 साल तक इस तरह का अभियान नहीं चला। कहा कि इन पशुओं से वोट नहीं मिलना। फिर भी योगी सरकार ने मेला लगाया और पूरे प्रदेश के हर जिले में कराने का संकल्प लिया, इसके लिए उन्हें बधाई है। पशुधन आरोग्य मेले से किसानों की आय बढ़ेगी और दूग्ध उत्पादन बढ़ेगा। कहा कि काशी और उत्तर प्रदेश के किसानों की आय में वृद्धि के लिए गुजरात सरकार और पराग डेरी आगे आयी है।

आराजी लाइन ब्लाक के शहंशाहपुर गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना के 11 लाभार्थियों को प्रमाण पत्र देकर प्रधानमंत्री ने कहा कि गंदगी में कोई जीना पसन्द नहीं करता। लोगों को अपनी मानसिकता बदलनी होगी। कहा कि गंदगी हम करेंगे तो सफाई कोई और नहीं अपने को ही करना होगा। कहा कि स्वच्छता हमारी जिम्मेदारी है। गांव नगर को स्वच्छ रखने से काम नहीं चलेगा। स्वच्छता हर परिवार-हर नागरिक की जिम्मेदारी है। यूनिसेफ के एक सर्वे का हवाला देकर कहा कि हर परिवार बीमारी में सालाना पचास हजार रूपये खर्च करता है। अगर वह स्व्च्छता का मंत्र अपना लें तो यह राशि बच जायेगी। और यह राशि घर के दूसरे काम में आयेगी।

शंहशाहपुर के मुसहर बस्ती का हवाला देकर कहा कि आज जब मैं वहां शौचालय निर्माण के लिए श्रमदान करने गया तो देखा कि गांव के शौचालय पर इज्जतगढ़ लिखा था। दार्शनिक अंदाज में कहा कि सचमुच शौचालय इज्जतगढ़ है। जिसको अपनी मां बहन के इज्जत की चिंता है वह इज्जतगढ़ बनवायेगा। बेघर लोगों को लेकर चिन्तित प्रधानमंत्री ने कहा कि 2022 आजादी का 75 वां साल होगा। संकल्प लें एक-एक लोग बेहतर करने का। हमारा संकल्प है कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करेंगे। हर ऐसे परिवार को छत देंगे, जिनके पास छत नहीं है। कहा कि बड़े मुश्किल काम का बीड़ा उठाया है। मजाकिया और तंजिया लहजे में कहा कि मुश्किल काम मोदी नहीं करेगा तो कौन करेंंगा।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>