ट्रंप ने राहत कार्यों के लिए 7.9 अरब डॉलर के भुगतान का किया अनुरोध
By dsp bpl On 2 Sep, 2017 At 01:05 PM | Categorized As विश्व | With 0 Comments

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हार्वे चक्रवात के कारण मची तबाही के बाद राहत एवं पुनर्निर्माण संबंधी प्रयासों के लिए सांसदों को प्रारंभिक अनुरोध भेजकर 7.9 अरब डॉलर का भुगतान करने के लिए कहा है। ऐसा माना जा रहा है कि अमेरिका की कांग्रेस इस अनुरोध को तुरंत स्वीकार कर लेगी और इससे संघीय आपात प्रबंधन एजेंसी के तेजी से घट रहे आपदा राहत कोष में इजाफा होगा तथा छोटे कारोबारों के लिये आपदा ऋण के मद में 45 करोड़ डॉलर की वित्तीय मदद मिलेगी।

लगातार बढ़ती संघीय उधार सीमा में वृद्धि के लिए जल्द मंजूरी हासिल करने के लिये रिपब्लिकन नेता पहले से ही उन सहायता पैकेजों के उपयोग की योजनाएं बना रहे हैं, जिनका लोकप्रिय होना तय है। प्रतिनिधि सभा के एक वरिष्ठ रिपब्लिकन नेता ने चर्चा निजी होने के चलते नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर इस रूख का खुलासा किया। इसमें प्रतिनिधि सभा के कंजर्वेटिव सदस्यों की आपत्तियों की अनदेखी की गयी है। कंजर्वेटिव्स इस बात पर जोर रहे हैं कि हार्वे के लिये आपदा राहत को कर्ज सीमा वृद्धि के साथ नहीं जोड़ा जाना चाहिए।

एक अन्य वरिष्ठ जीओपी सहयोगी ने इस बात पर चिंता जाहिर की कि इस बारे में कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है और डेमोक्रेट्स ने इस प्रस्ताव पर अपने हस्ताक्षर नहीं किये हैं। सीनेट में डेमोक्रेट्स के मतों की आवश्यकता होगी। संभावना है कि प्रतिनिधि सभा हार्वे सहायता को स्वतंत्र विधेयक के तौर पर पारित कर देगी लेकिन रिपब्लिकन नेता इस बात का संकेत दे रहे हैं कि सीनेट बढ़ी हुई कर्ज राशि को भी इसमें शामिल कर सकता है। इसके बाद प्रतिनिधि सभा इसे ट्रम्प के पास भेजने के लिये तत्काल फिर से मतदान करेगी। योजना अब तक संभावित है लेकिन व्हाइट हाउस ने इस विचार के साथ इसे अमल में लाने का संकेत दिया है।

व्हाइट हाउस के बजट निदेशक मिक मलवैनी ने सांसदों को लिखे पत्र में सहायता अनुरोध का उल्लेख करते हुए कहा ‘‘कर्ज की राशि का इन अहम आपदा बचाव एवं पुनर्निर्माण प्रयासों पर असर पड़ने से रोकने के लिए शीघ्रता से काम करें।’’

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>