अमरीका-दक्षिण कोरिया का सैन्य अभ्यास भड़काउ : उ. कोरिया
By dsp bpl On 22 Aug, 2017 At 02:19 PM | Categorized As विश्व | With 0 Comments

प्योंगयांग। अमरीका और दक्षिण कोरिया के सालाना सैन्य अभ्यास की उत्तर कोरिया ने निंदा की है और कहा है कि यह आग में घी डालने जैसा है। यह जानकारी मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। हालांकि अमरीका ने इस सैन्य अभ्यास को रक्षात्मक बताया है, लेकिन उत्तर कोरिया इसे हमले की तैयारी के तौर पर देख रहा है। इतना ही नहीं सैन्य अभ्यास का दक्षिण कोरिया में भी विरोध हो रहा है। कुछ प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को नाराज़गी जाहिर की।

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह उत्तर कोरिया की मीडिया ने जानकारी दी थी कि उसने प्रशांत महासागर स्थित अमरीकी द्वीप गुआम पर मिसाइल हमले को टाल दिया है। जुलाई में चीन और रूस ने प्रस्ताव रखा था कि मिसाइल परीक्षणों पर रोक के बदले सैन्य अभ्यास नहीं किया जाए। लेकिन अमरीकी ज्वाइंट चीफ़्स आफ़ स्टाफ़ के अध्यक्ष जोसेफ़ डनफर्ड ने कहा था कि सैन्य अभ्यास ‘फिलहाल किसी स्तर पर बातचीत का हिस्सा नहीं है और अभ्यास योजना के मुताबिक ही होगा। सैन्य अभ्यास में अमरीका के करीब 17 हज़ार पांच सौ और दक्षिण कोरिया के 50 हज़ार सैनिक हिस्सा ले रहे है। यह अभ्यास 10 दिनों तक चलेगा।

उत्तर कोरिया के सरकारी अख़बार ‘नोडोंग सिनमून’ ने रविवार को अपने संपादकीय में लिखा कि सैन्य अभ्यास से प्रायद्वीप की स्थिति बदतर होगी। साथ ही संपादकीय में अनियंत्रित परमाणु युद्ध’ की चेतावनी भी दी गई। समाचार एजेंसी ‘यानहैप’ ने सोमवार को दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन के हवाले से कहा कि उत्तर कोरिया को इस सैन्य अभ्यास के बहाने ‘हालात को बेकाबू नहीं करना चाहिए ।

अमरीका और दक्षिण कोरिया हर साल दो चरण में युद्धाभ्यास करते है। इसमें बड़ी संख्या में सैनिक और साजो सामान इस्तेमाल होता है। एक बार अभ्यास वसंत के मौसम में और दूसरा पतझड़ के वक्त होता है। दोनों समय ज़मीन, समुद्र और हवाई सैन्य अभ्यास होता है और कंप्यूटर के जरिए भी अभ्यास किया जाता है। हाल के सालों में चरमपंथ और रासायनिक हमले को लेकर भी अभ्यास हुए हैं।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>