इंडिया-आसियान यूथ समिट सोमवार से भोपाल में
By dsp bpl On 13 Aug, 2017 At 12:19 PM | Categorized As राजधानी | With 0 Comments

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार, विदेश मंत्रालय और इंडिया फाउण्डेशन द्वारा भोपाल में 14 से 19 अगस्त तक इंडिया आसियान यूथ समिट का आयोजन होगा। समिट का शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह करेंगे। यह जानकारी जनसम्पर्क एवं जल संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने देते हुए बताया कि शुभारंभ कार्यक्रम में केन्द्रीय युवा कार्यक्रम और खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विजय गोयल भी उपस्थित रहेंगे। पहले दिन फिल्म अभिनेता अनुपम खेर का व्याख्यान होगा।

डॉ. मिश्र ने बताया कि मध्यप्रदेश को इस आयोजन के लिये इसलिये चुना गया है कि यहां सांची का स्तूप आसियान देशों से सांस्कृतिक सम्बद्धता को प्रगाढ़ करता है। आयोजन मध्यप्रदेश में सुशासन पर हुए कार्य को विश्व पटल पर एक झांकी के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास है। मध्यप्रदेश पर्यटन को विश्व पटल पर प्रस्तुत करने का अभिनव प्रयास भी होगा। उन्होंने बताया कि यह आयोजन सालभर के दौरान भारत में हुए प्रमुख आयोजनों में से एक होगा। भारत में 25 साल के भारत-आसियान संवाद साझेदारी के 15 साल भी हो रहे है। संयोग से आसियान की स्थापना की 50वीं वर्षगांठ भी है। आसियान क्षेत्र के साथ भारत के सभ्यतागत संबंध सदियों पुराने हैं। इस आयोजन से नये सिरे से इन संबंधों की पड़ताल हो सकेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’ को देखते हुए इसका महत्व और भी बढ़ जाता है।

डॉ. मिश्र के अनुसार समिट अर्थात शिखर सम्मेलन में 35 साल से कम आयु के युवा नेताओं के 175 से अधिक प्रतिनिधि-मण्डल शामिल होंगे। इनमें सत्तारूढ़ और विपक्षी राजनीतिक दलों, थिंक टैंक, मीडिया, व्यवसाय, नौकरशाही और कला/संस्कृति क्षेत्र की भागीदारी भी रहेगी। कंबोडिया और वियतनाम का संसदीय प्रतिनिधि-मंडल भी समिट में शामिल होगा। महत्वपूर्ण पक्ष यह है कि प्रतिनिधियों में आधी संख्या नारी शक्ति की होगी। आसियान देश समिट को अपनी सांस्कृतिक विरासत और सभ्यता के प्रतीक आयोजन के रूप में देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि सम्मेलन युवा और आसियान नेताओं के प्राचीन और समकालीन, तेजी से विकासशील भारत और आसियान क्षेत्र के साथ संबंधों की बेहतर समझ को बढ़ाने की भावना पर आधारित रहेगा। आसियान-भारत के संबंधों के लिए ‘मूल्य’ और स्वामित्व की भावना को विकसित करने के लिये एक मंच भी बनेगा। इससे सुरक्षा और आर्थिक दोनों मुद्दों पर व्यापक क्षेत्रीय भागीदारी के लिये एक साझा दृष्टिकोण तैयार करने में मदद मिलेगी। यह समिट युवा नेताओं के बीच विचारों और अनुभवों की नेटवर्किंग एवं उन्हें साझा करने का एक मंच भी साबित होगा।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>