भारत और चीन सिक्किम बॉर्डर पर तनाव, 3000 हजार सैनिक तैनात
By dsp bpl On 30 Jun, 2017 At 03:23 PM | Categorized As विश्व | With 0 Comments

पेइचिंग। भारत और चीन सिक्किम बोर्डर पर एक-दूसरे से टकराव की स्थिति में हैं। दोनों देशों की सेनाओं के बीच पिछले कई दशकों से ऐसी स्थिति नहीं बनी थी। सिक्किम बोर्डर के नजदीक जिस स्थान पर चीन सड़क निर्माण करा रहा है, उस पर भारत ने आपत्ति जताई है।

3000 हजार सैनिक तैनात किये :- यह हिस्सा सिक्किम-भूटान और तिब्बत के जंक्शन पॉइंट पर है। दोनों देशों ने सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राई जंक्शन पर करीब 3000 हजार सैनिक तैनात कर दिए हैं और ऐसा कई वर्षों बाद देखा जा रहा है। भारत ने चीन के आक्रामक व्यवहार की परवाह न करते हुए स्पष्ट कर दिया है कि यह चीन को ट्राइ-जंक्शन तक सड़क नहीं बनाने देगा।

भूटान ने भी आपत्ति जताई :-भूटान ने भी चीन द्वारा सड़क निर्माण पर आपत्ति जताई है। भूटान के विदेश मंत्रालय ने प्रेस रिलीज जारी कर चीन के इस कदम की आलोचना की है। मीटिंग व दोनों देशों के कमांडरों के बीच बात से भी कोई हल नहीं निकल रहा है। सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने अपने दौरे पर 17 माउंटेन डिवीजन पर सैनिकों की तैनाती करने पर अधिक ध्यान दिया। इन पर पूर्वी सिक्किम की रक्षा की जिम्मेदारी है।

भारत पूरी तरह तैयार है :-  भारत सेना प्रमुख के साथ बैठक में 33 कॉर्प्स और 17 डिविजन कमांडर्स समेत सभी प्रमुख अधिकारी मौजूद थे। चीन की लागतार चेतावनी के बाद भी भारत अपनी स्थिति पर बना हुआ है, और स्पष्ट किया है कि यह ट्राइ-जंक्शन तक चीन की सड़क नहीं बनने देगा। रावत ने कहा था कि चीन और पाकिस्तान के साथ-साथ अंदरूनी सुरक्षा संकटों से निपटने के लिए भारत पूरी तरह तैयार है। भारतीय थलसेना प्रमुख की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया मांगे जाने पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के प्रवक्ता कर्नल वू यिान ने कहा, ‘ऐसा बड़बोलापन बेहद गैर-जिम्मेदाराना है।’

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>