डोनाल्ड ट्रम्प और व्लादिमीर पुतिन पहली बार जर्मनी में करेंगें मुलाकात
By dsp bpl On 30 Jun, 2017 At 03:36 PM | Categorized As विश्व | With 0 Comments

वाशिंगटन। विश्व के दो प्रमुख शीर्ष नेता अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनके रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन अगले सप्ताह जर्मनी में जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान पहली बार एक-दूसरे के आमने-सामने होंगें। क्रेमलिन और व्हाइट हाउस दोनों ने ही आज इस आशय की घोषणा की कि श्री ट्रम्प और श्री पुतिन हम्बर्ग में जी-20 राष्ट्रों के सात और आठ जुलाई के शिखर सम्मेलन के इतर मुलाकात करेंगें।

ट्रम्प के लिए बैठक में कठिनाइयां
अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एच आर मैकमास्टर ने संवाददाताओं से कहा कि बैठक के लिए अभी तक कोई भी एजेंडा तैयार नहीं किया गया है। हालांकि बैठक श्री ट्रम्प के लिए कठिनाइयों से भरा है। आरोप है कि रूस ने पिछले साल अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप किया था और रिपब्लिकन के अभियान में मदद कर श्री ट्रम्प की अप्रत्याशित जीत में मदद की थी। रूस और अमेरिका यूक्रेन, नाटो के विस्तार और सीरिया में गृहयुद्ध मसलों पर भी आमने-सामने हैं। रूस जहां सीरिया के राष्ट्रपति बाशर अल असद का समर्थन करता है वहीं अमेरिका असद को हटाने के लिए संघर्षरत विद्रोही समूहों को समर्थन देता है।

रूस के हमले से अमेरिका नाराज
गत अप्रैल में एक सीरियाई सरकारी हवाई अड्डे पर रूस के हमले से भी अमेरिका नाराज है, क्योंकि उसके मुताबिक यह एक रासायनिक हमला था जिसमें दर्जनों नागरिक मारे गये थे। श्री ट्रम्प को अक्सर रूस के साथ बेहतर संबंधों के लिए जाना जाता है लेकिन उनके अपने रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने रूस से सावधान रहने का आग्रह किया है। मैकमास्टर ने कहा, जैसा कि राष्ट्रपति ने स्पष्ट किया है कि वह अमेरिका और पूरे पश्चिम का रूस के साथ अधिक रचनात्मक संबंध बनाना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि हम रूस के अस्थिर व्यवहार का सामना करने के लिए जो भी आवश्यक होगा वह करेंगें।

ट्रम्प ने कहा रूस के साथ घनिष्ठता नहीं
अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का कहना है कि डेमोक्रेट हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में श्री ट्रम्प को जीताने के लिए रूस ने डेमोक्रेटिक पार्टी के राजनीतिक समूहों के ईमेल को हेक और लीक किया। हालांकि रूस ने आरोपों से इनकार किया है जबकि श्री ट्रम्प का कहना है कि उनकी टीम का रूस के साथ घनिष्ठता नहीं थी। फिलहाल कई कांग्रेस समिति और साथ ही संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) राष्ट्रपति चुनाव में रूस की भूमिका और श्री ट्रम्प के अभियान में इसकी कथित रूप से संलिप्तता की जांच कर रही है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>