कांग्रेस का आंदोलन 10 को, कई दिग्गज होंगे शामिल
By dsp bpl On 30 Jun, 2017 At 12:32 PM | Categorized As मध्यप्रदेश | With 0 Comments

भिण्ड। कांग्रेस पार्टी भाजपा प्रदेश सरकार के खिलाफ 10 जुलाई को लहार से शंखनाद करने जा रही है। जिसकी अगुवाई करने का जिम्मा लहार क्षेत्र के विधायक डॉ. गोविन्द सिंह को सौंपा गया है। लहार में आयोजित किसान-युवा क्रांति सम्मेलन की जोरदार तैयारियां चल रही हैं।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव खिजर मोहम्मद कुरैशी ने बताया कि इस महासम्मेलन में राष्ट्रीय व प्रदेश के अधिकांश नेताओं की भागीदारी रहेगी। जिसमें पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ, राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, मप्र प्रभारी मोहन प्रकाश, प्रतिपक्ष नेता अजय सिंह, युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा बरार समेत तमाम कांग्रेस के लीडर शिरकत करेंगे।

कुरैशी ने कहा कि प्रदेश का किसान बदहाल है। उसकी वजह केन्द्र सरकार की आयात, निर्यात नीति ठीक नहीं है। जब हमारे देश का किसान पर्याप्त उत्पादन देने में सक्षम है तो फिर बाहर से आयात क्यों किया जाता है। वहीं अधिक मात्रा में उत्पादन होने पर निर्यात की भी कोई व्यवस्था नहीं है। किसानों के उत्पादनों पर ही मंदी है। औद्योगिक क्षेत्र में नहीं। भाजपा पूंजीवादियों की सरकार है। किसान का कर्जा माफ नहीं कर सकते, जबकि उद्योग पति करोड़ों, अरबों रुपये शासकीय डकार रहे हैं, जिन पर कोई कार्रवाई नहीं है।

कुरैशी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एकजुट है और यह 10 जुलाई को लहार में होने वाले आंदोलन में स्पष्ट दिखेगा। कांग्रेस में एकजुटता है और कांग्रेस पार्टी के निर्णय पर ही लहार में आयोजन हो रहा है। लहार में आयोजित किसान व युवा क्रांति सम्मेलन में विधायक डॉ. गोविन्द सिंह के नेतृत्व में लगभग एक लाख से अधिक लोग आंदोलन में शामिल होंगे। किसान ही नहीं, हमारे देश का युवा भी परेशान है। बेरोजगारी बढ़ रही है, इसलिए लहार का आंदोन किसान व युवाओं को केन्द्रित है। उन्होंने किसान से अपील की है कि वे समस्याओं से हारकर आत्म हत्या का कदम न उठाएं। कांग्रेस उनके साथ है और अपनी आवाज को आंदोलन के रूप में ताकत दें। उन्होंने जीएसटी मामले पर बोलते हुए कहा कि जब इस बिल को मनमोहन सरकार लाना चाह रही थी तो भाजपा ने विरोध किया था। लेकिन मनमोहन सरकार ने जीएसटी से रोटी, कपड़ा ओर मकान मुक्त थे, लेकिन मोदी सरकार ने इन पर ही कर बढ़ा दिया है। वे जीएसटी के विरोधी नहीं हैं, लेकिन बुनियादी जरूरतों पर ध्यान देने की जरूरत थी, जो नहीं दी गई है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>