Home मध्यप्रदेश रेरा में पंजीयन के बाद ही हो सकेगी प्रोजेक्ट की मार्केटिंग-एडवरटाइजिंग

रेरा में पंजीयन के बाद ही हो सकेगी प्रोजेक्ट की मार्केटिंग-एडवरटाइजिंग

48
0

भोपाल। एक मई से मध्यप्रदेश सहित देश में, भू-सम्पदा (विनिमयन और विकास) अधिनियम, 2016 लागू हो चूका हैं। रेरा-एक्ट के अनुसार रियल एस्टेट के प्रोजेक्ट्स को रेरा-अथॉरिटी के समक्ष पंजीयन कराना अनिवार्य हैं। भारत-शासन द्वारा 12 जून को जारी स्पष्टीकरण के अनुसार किसी भी प्रोजेक्ट की, चाहे वह प्रस्तावित हो अथवा प्रचलित, अपूर्ण हो, किसी भी रूप में मार्केटिंग करने के पूर्व उसका रेरा प्राधिकरण में रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। इसके बगैर ऐसा किया जाना अवैधानिक होगा।

संभावित आवंटियों के लिए भी यह उचित होगा कि वे किसी भी प्रोजेक्ट में बुकिंग करने के पहले यह देख लें कि संप्रवर्तक, बिल्डर द्वारा अपने प्रोजेक्ट का रेरा प्राधिकरण में पंजीयन करा लिया गया है। प्रोजेक्ट के विज्ञापन के साथ, रेरा प्राधिकरण द्वारा प्रदत्त पंजीयन क्रमांक को देखकर इसकी पुष्टि की जा सकती है। रेरा प्राधिकरण द्वारा नागरिकों को सलाह दी गई है कि वे किसी भी प्रोजेक्ट का, रेरा में पंजीयन होने की पुष्टि के बाद ही, बुकिंग, क्रय सम्बन्धी कार्यवाही करें।

मध्यप्रदेश रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी की परिधि में वे परियोजनाएं आएंगी, जो भविष्य में बनना प्रस्तावित है या फिर 30 अप्रैल 2017 को अपूर्ण थी अर्थात जिनको पूर्णता प्रमाण-पत्र नगर निगम द्वारा जारी नहीं किया गया हो। वर्तमान में प्रचलित अपूर्ण रियल स्टेट के प्रोजेक्ट्स को भी अथॉरिटी के समक्ष 31 जुलाई तक पंजीयन कराना अनिवार्य किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here