आईएएस अनुराग तिवारी की मौत की जांच के लिए एसआईटी का गठन
By dsp bpl On 18 May, 2017 At 06:05 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

anuraagलखनऊ। कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में लखनऊ पुलिस ने आज पांच पुलिस अधिकारियों की एसआईटी (विशेष जांच दल) का गठन कर दिया है तथा इस टीम को 72 घंटे में अपनी जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। एसएसपी दीपक कुमार ने आज पत्रकारों को बताया कि हजरतगंज पुलिस स्टेशन के सर्किल आफिसर के नेतृत्व में पांच अधिकारियों की एक विशेष जांच टीम का गठन कर दिया गया है। इस टीम को कहा गया है कि वह घटना के हर पहलू की गहन जांच करें और अपनी रिपोर्ट 72 घंटे में उन्हें सौंपे।

उन्होंने कहा कि मृतक आईएएस अधिकारी तिवारी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है, इसलिये बिसरा सुरक्षित रख लिया गया है तथा उसकी जांच कराई जायेगी। बुधवार देर रात चार डॉक्टरों के पैनल ने तिवारी का पोस्टमार्टम किया था। एक सवाल के जवाब में एसएसपी कुमार ने कहा कि आईएएस तिवारी के परिजनों ने इस मामले में किसी के खिलाफ कोई रिपोर्ट नहीं दर्ज कराई है अगर परिजन कोई तहरीर देते है तो रिपोर्ट दर्ज कर ली जायेंगी।

गौरतलब है कि कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी कल सुबह राजधानी लखनऊ के हजरतगंज स्थित मीराबाई गेस्टहाउस के पास संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाये गये। किसी व्यक्ति ने डायल 100 सेवा पर फोन करके जानकारी दी कि संदिग्ध परिस्थितियों में मृत एक व्यक्ति मीराबाई गेस्ट हाउस के पास सड़क किनारे पड़ा है। कि मृत व्यक्ति के पास से मिले पहचान पत्र से उनकी शिनाख्त वर्ष 2007 बैच के आईएएस अफसर अनुराग तिवारी के रूप में हुई थी।

बुधवार को बहराइच में मृत आईएएस तिवारी के पिता बीएन तिवारी ने आरोप लगाया था, ‘‘मेरा बेटा बहुत ही ईमानदार था लेकिन भ्रष्ट अधिकारी उसे कतई पसंद नही करते थे और वह उसे किसी भी तरह मरवाना चाहते थे। आईएएस में चयन के एक वर्ष बाद ही उसकी शादी हुई थी लेकिन पति पत्नी में संबंध ठीक न होने के कारण वह इसी साल कानूनी रूप से एक दूसरे से अलग हो गये थे।’’

वही इस मुद्दे पर उत्तर प्रदेश की राजनीति भी गर्मायी हुयी है।  आज उत्तर  विधानसभा इस मुद्दे पर कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा होता रहा । उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने आज कहा कि दिवंगत आईएएस अधिकारी कर्नाटक में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार के करोड़ों रुपये के घोटाले का पर्दाफाश करने वाले थे।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>