बोर्ड परीक्षाओं में रि-टोटलिंग के लिए शुरू हुए ऑनलाइन आवेदन
By dsp bpl On 16 May, 2017 At 12:46 PM | Categorized As राजधानी | With 0 Comments

भोपाल। मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा कक्षा 10वीं व 12वीं के रिजल्ट जारी करने के बाद रि-टोटलिंग की तारीख घोषित कर दी है। जो छात्र अपने रिजल्ट से संतुष्ट नहीं है वे एमपी ऑनलाइन की कियोस्क पर पहुंचकर रीटोटलिंग के साथ ही आंसरशीट की फोटोकॉपी के लिए आवेदन कर रहे हैं। छात्र रिजल्ट घोषित होने की तारीख से 15 दिन तक आवेदन कर सकते हैं।

छात्रों के आवेदन मिलने की तारीख से 10 दिन बाद रीटोटलिंग के रिजल्ट जारी कर दिए जाएंगे। वहीं आंसरशीट की फोटोकॉपी के आवेदन मिलने की तारीख से 25 दिन के बाद छात्रों को बताए गए पते पर डाक के माध्यम से फोटोकॉपी भेज दी जाएगी। रि-टोटलिंग के लिए प्रति विषय 200 रुपये और आंसरशीट की फोटोकॉपी के लिए प्रति विषय 500 रुपये शुल्क जमा करना होगा। जहां रि-टोटलिंग के वह छात्र ज्यादा फार्म भर रहे हैं जो कुछ अंकों की कमी के कारण फेल या सप्लीमेंट्री आई है। वहीं आंसरशीट मांगाने वालों में टॉपर शामिल हैं।

हाल ही में घोषित बोर्ड नतीजों के बाद कई विद्यार्थियों के चेहरों पर मुस्कुराहट देखी गई तो कई विद्यार्थी अनुत्तीर्ण होने पर मायूस हो गए। ऐसे विद्यार्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए मप्र शासन ने रुक जाना नहीं योजना का क्रियान्वयन है। इस योजना के तहत आगामी 25 मई से 31 मई तक निर्धारित केंद्रों पर विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई हैं। इससे पूर्व अनुत्तीर्ण विद्यार्थी 18 मई तक एमपी ऑनलाइन व कियोस्क सेंटरों पर पहुंचकर निर्धारित शुल्क जमाकर अपना पंजीयन करा सकते हैं। इसके उपरांत 19 जून को आयोजित परीक्षा में विद्यार्थियों को केवल उस विषय की ही परीक्षा देना होगी, जिसमें वह सफल नहीं हुए हैं। इस परीक्षा में प्रश्न पत्र माशिमं पाठ्यक्रम होगा तथा अंक सूची मप्र राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा परिषद से प्रदान की जाएगी। इसमें भी जिन विषयों में परीक्षार्थी अनुत्तीर्ण होते हैं, वह पुन: अपना पंजीयन कराकर अक्टूबर नवम्बर माह में होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। इस योजना से एक तो विद्यार्थियों का साल बर्बाद नहीं होगा।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>