दिल्ली में एकजुट हुए नक्सल पीड़ित राज्य
By dsp bpl On 8 May, 2017 At 02:40 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

Rajnath-Singhकेन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह सिंह ने आज नक्सल प्रभावित दस राज्यों के मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में कहा कि समाधान सिद्धांत के तहत कुशल नेतृत्व, आक्रामक रणनीति, प्रोत्साहन एवं प्रशिक्षण, कारगर खुफिया तंत्र, कार्ययोजना के मानक, कारगर प्रोद्यौगिकी, प्रत्येक रणनीति की कार्ययोजना और नक्सलियों के वित्तपोषण को विफल करने की रणनीति को शामिल करने की जरूरत बतायी। .राजनाथ सिंह ने कहा है कि नक्सल समस्या से निपटने के लिए कोई शॉर्टकट रास्ता नहीं है और इसके लिए लॉन्ग टर्म स्ट्रैटजी बनाने की जरूरत है। सिंह ने पिछली घटनाओं से सबक लेते हुये नक्सल विरोधी अभियानों को लागू करने में हर कदम पर आक्रामक कार्रवाई की जरूरत पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि नक्सल समस्या से निपटने की नीति से रणनीति और सुरक्षा बलों की तैनाती, सड़क निर्माण सहित अन्य विकास कार्यों को पूरा करने तक आक्रामक होने की जरूरत है। मीटिंग में राजनाथ सिंह के अलावा केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु, जयंत सिन्हा, नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल और मनोज सिन्हा शामिल हुए। मीटिंग में नक्सल प्रभावित 10 राज्यों छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा, वेस्ट बंगाल, बिहार, महाराष्ट्र, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश के सीएम और ऑफिशियल्स को बुलाया गया था। हालांकि, इसमें वेस्ट बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, तेलंगाना के सीएम केसी राव और आंध्र प्रदेश के सीएम एन. चंद्रबाबू नायडू मौजूद नहीं थे। जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के अलावा अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हुये।

सिंह ने नक्सल प्रभावित सभी राज्य सरकारों से नक्सली हिंसा के खत्मे को ‘‘साझा लक्ष्य’’ मानते हुये कार्ययोजना को लागू करने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने कहा कि ‘बंदूक की नोंक पर विकास को रोकने और लोकतंत्र का गला घोंटने’ के प्रयासों को विफल करने के लिए एकीकृत कमान का गठन कर साझा रणनीति को अपनाना होगा। उन्होंने मौजूदा रणनीति के तहत नक्सल विरोधी अभियानों में नक्सली ठिकानों का पता लगाने में मानवरहित विमानों (यूएवी) के कम इस्तेमाल का जिक्र करते हुये इसे बढ़ाने को जरूरी बताया तथा इंटेलिजेंस एजेंसी और सिक्युरिटी फोर्सेस को लोकल पब्लिक के साथ नेटवर्क डेवलप करने की जरूरत पर भी बल दिया ।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>