Home भारत तुगलकाबाद गैस रिसाव, बचाव के लिए एम्‍स ने जारी की एडवाइजरी

तुगलकाबाद गैस रिसाव, बचाव के लिए एम्‍स ने जारी की एडवाइजरी

61
0

नई दिल्ली। तुगलकाबाद इलाके में शनिवार सुबह एक कंटेनर से गैस रिसाव मामले में दो स्कूल की करीब 475 छात्र छात्राएं गैस के चपेटे में आ गये थे जिसके बाद मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने इस मसले पर एडवाइजरी (सलाह) जारी की है।

इस एडवाइजरी में एम्‍स ने बताया है कि अगर कोई हानिकारक रसायन हवा में फैल जाए तो उससे बचाव कैसे करें। इसके प्रभाव में आने वालों को सलाह दी गई है कि सबसे पहले तो घबराएं नहीं, आंखों को रगड़ें नहीं। अगर कपड़े कैमिकल के गिरने से संक्रमित हो गए हैं तो उन्हें उतारकर खुली हवा में आएं कम से कम 15 मिनट तक आंखों को साफ पानी से धोएं। कोशिश करें खुले में रहें जहां पर्याप्‍त साफ हवा हो।

एम्स के राष्ट्रीय विष सूचना केंद्र(नेशनल पॉइज़न इन्फॉर्मैशन सेंटर) के अध्यक्ष प्रो. वाई के गुप्ता के अनुसार,’यह एडवाइजरी पुलिस के चालान से प्राप्त सूचना के आधार पर जारी की गई है। इस चालान के अनुसार यह गैस नहीं है बल्कि हानिकारक रसायन के वाष्पीकृत होने के कारण यह दुघर्टना घटी है।

एम्स ने अपनी एडवाइजरी में इस रसायन के हवा में फैलने से मनुष्यों पर पड़ने वाले लक्षणों के बारे में बताया है। ये लक्षण हैं आंखों में खुजली, आंखों का लाल होना, पानी आना, त्‍वचा में खुजली और लाल होना। इसके साथ छींक, खांसी और सांस लेने में दिक्‍कत हो सकती है।

गौरतलब है कि शनिवार सुबह करीब 7:43 पर पुलिस को सूचना मिली थी कि गैस कंटेनर से गैस रिसाव होने के कारण रानी झांसी सर्वोदय विद्यालय और गर्वमेंट गर्ल्स सीनियर स्कूल की छात्र-छात्राएं गैस के चपेटे में आ गए थे। इसमें करीब एक दर्जन बच्चे बेहोश हो गए थे, जबकि करीब 475 बच्चों की आंखों में जलन, पेट व गले में दर्द की शिकायत हुई थी। सभी बच्चों को बत्रा, अपोलो, मजिदिया, ईएसआई और सफरदजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here