शिवपाल ने पार्टी को किया बर्बाद, अखिलेश फिर बनेंगे अध्यक्ष: रामगोपाल
By dsp bpl On 30 Apr, 2017 At 03:15 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

इटावा। विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद भी समाजवादी पार्टी (सपा) के नेताओं का एक दूसरे पर हमला जारी है। पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव के कुनबे के लोग अभी भी एक दूसरे को हार के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। मौका चाहे पार्टी कार्यक्रम का हो या फिर निजी अवसर, एक दूसरे पर तंज कसने का सिलसिला जारी है। इसी कड़ी में अब पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य सभा सांसद रामगोपाल यादव ने शिवपाल यादव पर हमला बोला है।

रामगोपाल ने कहा कि शिवपाल ने सपा को बर्बाद कर दिया है। उन्होंने पार्टी का संविधान नहीं पढ़ा है। सपा महासचिव ने कहा कि पार्टी की जनरल बॉडी की मीटिंग में अखिलेश को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया था और जब चुनाव से पहले अखिलेश कोई बात कह रहे थे तो किसी ने नहीं सुनी तो अब नेताजी को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने की बात को तूल क्यों दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि शिवपाल ने नेताजी को गुमराह कर के पार्टी को बर्बाद किया है। सदस्यता अभियान के बाद जल्दी पार्टी अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष सहित राष्ट्रीय अध्यक्ष का चयन किया जाएगा जिसमें अखिलेश का दोबारा राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना तय है।

रामगोपाल ने पार्टी कार्यालय में प्राथमिक सदस्यता भी ली। इस मौके पर उन्होंने नक्सली समस्या को आतंकवाद से बड़ी समस्या बताया। उन्होंने कहा कि नक्सल समस्या के हल के लिए उन्होंने केन्द्र सरकार से अपील की कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शिक्षा की जरूरी सुविधाएं और योजना लाकर इस समस्या को रोका जा सकता है।

इससे पहले शिवपाल ने जौनपुर में कहा था कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अब पार्टी की कमान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव को सौंप देनी चाहिए। शिवपाल ने कहा कि अखिलेश यादव ने कहा था कि तीन महीने के बाद पार्टी की कमान नेताजी मुलायम सिंह यादव को सौंप देंगे। ऐसे में उन्हें अब अपना वादा पूरा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में पार्टी की जो दुर्दशा हुई थी, उसका अंदाजा उन्हें पहले से ही हो गया था। यही वजह है कि बार-बार वह पार्टी की कमान मुलायम सिंह यादव को सौंपने की बात कह रहे थे।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>