वीआईपी नहीं न्यू इंडिया में ईपीआई लाना है : प्रधानमंत्री
By dsp bpl On 30 Apr, 2017 At 01:01 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा वीआईपी कल्चर के खिलाफ जनता में नफरत में थी। उन्होंने कहा कि लाल बत्ती के चलन को खत्म करने का मकसद कुछ लोगों के दिमाग से वीआईपी संस्कृति खत्म करना और ईपीआई ‘एवरी पर्शन इज इम्पोर्टेंट’ लाना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात कार्य़क्रम में कहा, लाल बत्ती के चलन को खत्म करने के फैसले का मकसद कुछ लोगों के दिमाग से वीआईपी संस्कृति खत्म करना है।‘ उन्होंने कहा कि लोगों में वीआईपी कल्चर से नाराजगी है। इसका अनुभव इसे हटाने के बाद हुआ। बत्ती गाड़ी पर लगती थी लेकिन मन में घुस जाती थी। दिमाग में जो बत्ती घुसी उससे निकलने में थोड़ा वक्त लगता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लोगों ने लालबत्ती हटाने के निर्णय का स्वागत किया है। अब मन से भी इसे हटाना है। यह भी सफाई अभियान का हिस्सा भी है। उन्होंने कहा कि न्यू इंडिया का मतलब ईपीआई है। इसका अर्थ है ‘एवरी पर्शन इज इम्पोर्टेंट’। सभी देशवासी का महत्व है। यह सब हमें मिलकर करना है। हाल ही में केंद्र की मोदी सरकार की मंत्रीमंडल बैठक में लाल बत्ती कल्चर खत्म करने का फैसला किया गया है।

पीएम मोदी ने दिये युवाओं को सुझाव, इन छुटिटयों में कुछ नया सीखें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को मन की बात में देश के युवाओं को कुछ सुझाव दिये। पीएम ने युवाओं एवं नौजवानों के संबंध में कहा कि कई लोग आराम की जिंदगी जीने के आदि हो जाते हैं। युवाओं को कम्फर्ट जोन में आनंद आता है। यह सही है लेकिन मेहनत भी जरूरी है। पीएम ने छुट्टियों के लिए भी सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि अब परीक्षाएं समाप्त हो चुकी है। इन छुट्टियों में युवाओं को कुछ नया करना चाहिए। इसके लिए तीन सुझाव हैं। नई स्किल का अनुभव लें, जिसके बारे में न सुना हो, न जानते हो उसका अनुभव प्राप्त करें। छुट्टियों की प्लानिंग में नई जगहों का चयन करें,वहां जाकर अपनी जिज्ञासा को जानने का पर्याप्त समय दें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इन छुटिटयों में रिजर्वेशन लिए बिना साधारण टिकट लेकर 24 घंटे भीड़ वाले डिब्बे में जाकर देखिए। जो अनुभव 6 महीने में नहीं मिला होगा वो 24 घंटे में मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि कभी गरीब बच्चों के बीच जाकर खेल खेलिए। साथ ही किसी एक ऐसी संस्था के साथ जुड़िए जो यह सब करती है। तब आपको नये अनुभव मिलेंगे। आप जिंदगी को बेहतर ढंग से समझ पायेंगे।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>