आज के समय मे बुद्ध के विचार प्रासंगिक : प्रधानमंत्री मोदी
By dsp bpl On 30 Apr, 2017 At 12:10 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर श्रीलंका में संयुक्त राष्ट्र के कार्यक्रम हिस्सा लेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को 31वीं बार ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा, ‘आज के समय मे बुद्ध के विचार बहुत अहम है। दक्षिण एशिया को भारत का अनमोल नजराना है। 10 मई को दक्षिण एशिया के विकास के लिए भारत सेटेलाईट लॉन्च करेगा।हमारा लक्ष्य सबका साथ सबका विकास (भारत के साथ पडौसी देशों का भी विकास)।‘

‘मन की बात’ कार्यक्रम में सुझाव देने वालों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आभार जताया। मोदी ने कहा, ‘लोग फोन, रिकॉर्डेड मैसेज भेजते हैं। कई सुझाव आते हैं। अच्छा लगता है, लोग इतनी समस्याएं बताते हैं जहां शायद सरकार की नजर भी नहीं जाती होगी। हर बार जो भी बातें यहां आती है, उसे सरकार देखती है, एनालिसिस करती है। उन्होंने कहा कि लोग अकसर सलाह और सुझाव देते हैं। यह हमारे यह स्वभाव है।’

इसके साथ ही उन्होंने गुजरात महाराष्ट्र राज्य की जनता को स्थापना दिवस की बधाई दी। उन्होंने कहा 1 मई को महाराष्ट्र और गुजरात का स्थापना दिवस है। उन्हें बधाई। 2022 तक हम अपने राज्य, देश, नगर को कहां ले जाएंगे। इस बारे में सोचना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि जलवायु परिवर्तन आज की सबसे बड़ी समस्या है। इसी का नतीजा है कि मई-जून की गर्मी इस बार अप्रैल में देखने को मिल रही है। लोगों ने गर्मी को लेकर सुझाव दिए हैं।

वहीं, उन्होंने कहा कि बच्चों को पक्षियों के पानी की व्यवस्था करने देख, पशु पक्षियों के साथ लगाव से आनन्द की अनुभूति होती है। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रशांत कुमार मिश्र, टीएस कार्तिक ने पक्षियों की चिंता की है। उन्होंने गर्मी के समय क्या करें इसका सुझाव दिया है। छोटे छोटे बच्चे ऐसे काम को लेकर उत्साहित रहते हैं। लोग छत पर पानी भरते हैं। बच्चों में ऐसी बातों को लेकर उत्साह देखा जाता है। मोदी ने कहा कि गुजरात में बोहरा समाज के लोगों गौरैया को बचाने के लिए काफी काम किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि देश इस बार रामानुजाचार्य की 1000वीं जयंती मना रहा है। भारत एक ऐतिहासिक देश है और लोग 100वीं शताब्दी मनाते हैं। हमें उस समय के समाज के बारे में सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि रामानुजाचार्य जी ने समाज की बुराइयों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्होंने अपने आचरण द्वारा लोगों में अपनी जगह बनाई। तब अछूत कहे जाने वालों को गले लगाया। मंदिर प्रवेश के लिए आंदोलन किए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार उनके सम्मान में एक डाक टिकट जारी करेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि टेक्नोलॉजी से घर में दूरियां बनी, कहीं युवा वर्ग रोबोट तो नहीं बन रहा। कुछ समय टेक्नोलॉजी से दूर खुद के साथ समय बितायें, जंगल में समय बिताये, देश की विविधता को जाने युवा वर्ग। उन्होंने नौजवानों को लेकर कहा कि कई लोग आराम की जिंदगी जीने के आदि हो जाते हैं। कंफर्ट जोन में जीना ठीक है, लेकिन मेहनत जरूरी है।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>