Home भारत नये मुख्यमंत्री से साधु-संतों में भी जगी विकास की उम्मीद

नये मुख्यमंत्री से साधु-संतों में भी जगी विकास की उम्मीद

32
0

इलाहाबाद। नये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बनने पर तमाम साधु-संतों में भी खुशी की लहर है और आशा जतायी है कि अब विकास और सुशासन होगा तथा लोगों को न्याय मिलेगा। मोदी-योगी विकास के लिए समर्पित: वासुदेवानन्द सरस्वती अलोपीबाग स्थित ज्योतिर्मठ बदरिकाश्रम शंकराचार्य वासुदेवानन्द सरस्वती ने साक्षात्कार के दौरान कहा कि अब मोदी और योगी किसी पार्टी के नहीं बल्कि देश-प्रदेश के सभी जातियों के संरक्षण, संवर्द्धन के लिए जनता ने चुना है और वे विकास करेंगे।

उन्होंने आशा जतायी कि योगी आदित्यनाथ जन समाज की निष्ठापूर्वक सेवा करते हुए समाज का विकास करेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसी आशा करता हूं कि बिना किसी भेदभाव के जाति संप्रदाय से ऊपर उठकर प्रदेश के लोगों को विकसित करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी अपने शासन काल में उन्नति व विकास करने में सफल सिद्ध हों ऐसी अनुशंसा करता हूं। कट्टर हिन्दुत्ववादी छवि होने पर पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि योगीजी सभी जातियों का विकास करेंगे, चाहे वह हिन्दू हो या मुस्लिम। उन्होंने कहा कि क्या मुस्लिम हिन्दुत्व नहीं है, कुछ ऐसे मुस्लिम जरूर हैं जो समाज में जाति व धर्म के नाम पर अराजकता फैलाते हैं और ऐसे लोगों पर कार्रवाई होना न्यायसंगत है। यूपी का विकास व लोगों की सुरक्षा हो प्राथमिकता: नरेन्द्रानन्द सरस्वती काशी सुमेरू पीठाधीश्वर नरेन्द्रानन्द सरस्वती ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते हुए कहा कि भारत में सबसे ज्यादा खराब हालत हैं तो यूपी की है।

यहां पहले विकास हो और लोगों की सुरक्षा हो। उन्होंने श्री योगी से उम्मीद जताते हुए कहा कि प्रदेश में सुशासन हो, विकास हो, नशामुक्त भारत हो, आईएसआई का अड्डा एवं आतंकवाद समाप्त हो, ऐसी कामना करता हूं। रामजन्म भूमि के बारे में पूछे जाने पर कहा कि अब तो मंदिर बनेगा ही, लेकिन सबसे पहले प्राथमिकता विकास और लोगों की सुरक्षा को लेकर है। भारत में नशा करने वालों की संख्या भी तेजी से पांव पसार रही है, जिसके कारण कई घर-परिवार बर्बाद हो रहे हैं। इस नशे को रोक कर भारत को नशामुक्त कराना भी बहुत आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here