जो काम में रुचि नहीं लें उन्हें हटा दें : मंत्री जोशी
By dsp bpl On 31 Jan, 2017 At 05:38 PM | Categorized As राजधानी | With 0 Comments

भोपाल। जो काम में रुचि नहीं लेते, उन्हें हटा दें। प्रदेश के तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री दीपक जोशी ने मंगलवार को यह बात पब्लिक प्रायवेट पार्टनरशिप मोड में संचालित शासकीय आईटीआई के प्राचार्यों और इंस्टीट्यूट मैनेजमेंट कमेटी (आईएमसी) के चेयरमेन के वर्कशॉप में कही। श्री जोशी पूर्व में कार्य में लापरवाही बरतने पर धार जिले की महिला आईटीआई सिंहाना के प्राचार्य को निलंबित कर चुके हैं। वर्कशॉप में 74 शासकीय आईटीआई के प्राचार्य शामिल हुए, जिनके उन्नयन के लिये भारत सरकार द्वारा 2 करोड़ 50 लाख का ब्याज-रहित ऋण 30 वर्ष के लिये दिया गया है।

श्री जोशी ने कहा कि संस्थावार बैठक कर कार्य-योजना बनायें। उन्होंने कहा कि आईटीआई रायसेन और टोंकखुर्द में अनुकरणीय कार्य हुआ है। श्री जोशी ने कहा कि राशि का सदुपयोग कर इन 74 आईटीआई को मॉडल आईटीआई बनायें। उन्होंने कहा कि बच्चों को ऐसा प्रशिक्षण दें कि संस्था से निकलते ही उन्हें रोजगार मिल जाये।

आईटीआई चलो अभियान

श्री जोशी ने कहा कि ‘स्कूल चलें हम अभियान” की तर्ज पर ‘आईटीआई चलो अभियान” चलेगा। उन्होंने कहा कि स्कूल के विद्यार्थियों को आईटीआई करने के लिये प्रेरित किया जायेगा।

होगी ग्लोबल स्किल समिट

मध्यप्रदेश रोजगार निर्माण मण्डल के अध्यक्ष हेमंत देशमुख ने कहा कि अप्रैल माह में ग्लोबल स्किल समिट होगी। समिट में आईटीआई प्रशिक्षित बच्चों को रोजगार दिलवाने के लिये फ्लेक्सी एमओयू किये जायेंगे।

प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा कल्पना श्रीवास्तव ने कहा कि आईटीआई उद्योगपतियों से मिलकर कार्य करेगी तो स्किलिंग को प्रोत्साहन मिलेगा। प्राचार्यों को आईएमसी का बेहतर उपयोग करना चाहिये। उन्होंने कहा कि यह 74 आईटीआई अलग दिखनी चाहिये। संचालक कौशल विकास संजीव सिंह ने वर्कशॉप के उद्देश्य बताये। उन्होंने कहा कि वर्कशाप आईटीआई में किये गये अच्छे कार्यों की जानकारी भी शेयर होगी। वर्कशॉप में विभिन्न आईटीआई के प्राचार्यों ने उनके यहाँ किये गये अच्छे कार्यों का प्रेजेंटेशन भी दिया।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>