जाट आंदोलन : आरक्षण को लेकर तीसरे दिन भी धरना
By dsp bpl On 31 Jan, 2017 At 03:53 PM | Categorized As भारत | With 0 Comments

चंडीगढ़। आरक्षण को लेकर जाटों का अनिश्चितकालीन धरना हरियाणा में मंगलवार को तीसरे दिन भी जारी है। मंगलवार को पूर्व निर्धारित समय पर आंदोलनकारी जाट धरना स्थलों पर पहुंचने प्रारम्भ हो गए थे। वहीं सभी जिलों में प्रशासन द्वारा सभी धरना स्थलों पर भारी फोर्स तैनात किया गया है। जैसे-जैसे धरने का दिन बढ़ता जा रहा है। प्रशासन द्वारा जवानों की संख्या बढानेे के साथ ही चौकसी भी बढ़ाई जा रही है। खुफिया विभाग द्वारा लगातार आंदोलन की अपडेट उच्चाधिकारियों को दी जा रही है। वहीं चण्डीगढ़ में बने आपातकक्ष में प्रत्येक जिले के उपायुक्त द्वारा हर दो घंटे पर आंदोलन से सम्बन्धित रिपोर्ट दी जा रही है। मुख्य सचिव व गृह सचिव लगातार आपातकक्ष के माध्यम से आंदोलन पर निगाह रख रहे हैं।

गौरतलब है कि अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति द्वारा यह अनिश्चितकालीन धरना आरम्भ किया गया है। आंदोलनकारी जाट नेता आरक्षण मिलने तक धरना जारी रखने का हुंकार भर रहे हैं। यशपाल मलिक गुट इस धरने में ज्यादा सक्रिय है। पिछली बार आंदोलन के केन्द्र रहे रोहतकए हिसार, कैथल, झज्जर, सोनीपत व जींद में विशेष निगाह रखी जा रही है। सरकार ने अफवाहों पर विराम लगाने के लिए झज्जर में पहले ही दिन में सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगा दिया है। यही नहीं कई अन्य संवेदनशील जिलों में सोशल मीडिया पर लगातार निगाह रखी जा रही है। इस आंदोलन को देखते हुए प्रदेश के सभी प्रमुख मार्गों के साथ ही नहरोंए बस अड्डों, रेलवे स्टेशन आदि पर सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हैं। सोनीपत में दिल्ली को पानी की सप्लाई करने वाली मुनक नहर की सुरक्षा के लिए भी एक टुकड़ी तैनात की गयी है। संवेदनशील जिलों व स्थलों पर अर्द्धसैनिक बलों के जवान लगातार मार्च कर रहे हैं तथा कई जगहों पर नाके बंदी की गई है। इन नाकों पर लगातार वाहनों की चेकिंग की जा रही है। वहीं चंडीगढ़ में बने आपातकक्ष के माध्यम से मुख्य सचिव व गृहसचिव आंदोलन पर लगातार निगाह बनाए हुए हैं। मंगलवार को खबर लिखे जाने तक आंदोलन को लेकर किसी प्रकार की हिंसा की सूचना नहीं मिली थी।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>