Home मध्यप्रदेश सुरक्षा सप्ताह बना मात्र औपचारिकता, टूट रहे नियम

सुरक्षा सप्ताह बना मात्र औपचारिकता, टूट रहे नियम

38
0

गुना। हर बार की तरह इस बार भी शहर में पूरे सातों दिन सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा है, लेकिन ये सप्ताह उस वक्त औपचारिकता में सिमटता नजर आ रहा है, जब सड़कों पर नियम धराशाही होते नजर आ रहे हैं। इन दिनों मुख्य चौराहों पर हालत बिगड़ी हुई दिखाई दतो बाजार में भी व्यवस्थाएं ट्रेफिक पुलिस के नियंत्रण से बाहर हो रही हैं। गौरतलब है कि ट्रैफिक को लेकर हर साल नए प्रयास होते हैं और तमाम आदेश जारी होते हैं। लेकिन इन आदेशों का सख्ती से पालन नहीं होने से सब कुछ ढेर हो जाता है। ट्रैफिक सुधार को लेकर प्रशासन के प्रयासों में आम लोगों का सहयोग कम ही रहता है।

मसलन अभी तक ट्रैफिक सुधार के प्रयास हुए लेकिन मनमानियों के चलते ठोस कदम नहीं उठाए गए। यही कारण है कि अभी भी शहर में ट्रैफिक बदहाल है। शहर में ट्रैफिक सुधार के लिए हमने सात ऐसे लक्ष्य ढूंढें है जिन्हें पूरा कर लिया जाए तो नगर के ट्रैफिक में काफी सुधार हो सकता है। लेकिन इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रशासन, पुलिस और नगरपालिका को सामंजस्य बनाना होगा। नियम जानते हैं, मानते नहीं सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान शहर की ट्रेफिक पुलिस पूरे समय औपचारिकताएं निभाती नजर आ रही है। ट्रेफिक पुलिस ने न तो ट्रैफिक के नियमों का पालन को लेकर लोगों को समझाइश दी और न ही कोई कार्रवाई ही की। गंभीर बात यह है कि अधिकांश लोगों को ट्रैफिक के नियम मालूम तो हैं लेकिन वे उनका पालन नहीं करते। फिर चाहे ओवलोडिंग हो या सड़क पर वाहनों की पार्किंग का मामला। ऐसे में हालात शहर की ट्रैफिक व्यवस्था पूरी तरह बिगड़ी हुई है। सड़क सुरक्षा सप्ताह के गुजरे पांच दिनों में शहर में नियम तोड़ने के नजारे सार्वजनिक हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here