नव वर्ष पर महाकाल मंदिर की दर्शन व्यवस्था में परिवर्तन
By dsp bpl On 31 Dec, 2016 At 12:13 PM | Categorized As मध्यप्रदेश, राजधानी | With 0 Comments

उज्जैन।  वर्ष 2016 की विदाई एवं नव वर्ष 2017 के आगमन अवसर पर महाकाल  मंदिर में दर्शनार्थियों की संख्या में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए महाकाल के दर्शन की व्यवस्था में परिवर्तन किया गया है। कलेक्टर संकेत भोंडवे एवं पुलिस अधीक्षक एम. एस. वर्मा ने बताया कि 31 दिसम्बर से 3 जनवरी तक महाकाल मंदिर में दर्शन व्यवस्था में परिवर्तन कर किसी भी दर्शनार्थी को गर्भगृह एवं नंदीहॉल में प्रवेश नहीं दिया जायेगा। सभी दर्शनार्थियों को नंदी हॉल के पीछे लगे रैलिंग से ही भगवान महाकाल के दर्शन होंगे।

कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि किसी भी श्रद्धालु के साथ दुव्र्यवहार न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाये। श्रद्धालुओं की सुरक्षा, श्रद्धा एवं सुविधा पर विशेष ध्यान दिया जाये।

कलेक्टर संकेत भोंडवे एवं पुलिस अधीक्षक एम.एस. वर्मा ने संबंधितों को निर्देश दिये है कि किसी भी श्रद्धालु को चांदी गेट, जलद्वार, नैवैद्य द्वार तथा सूर्यमुखी गेट से प्रवेश नहीं दिया जाये। इन चारों गेटों पर ताला लगाने के निर्देश दिये। प्रवेश द्वारों पर पुलिस अधिकारी एवं मजिस्ट्रेट (राजस्व) की ड्यूटी रहेगी। कलेक्टर ने निर्देश दिये कि मंदिर परिसर कर्मचारियों एवं अधिकारियों का आपसी समन्वय बेहतर हो, ताकि किसी भी श्रद्धालु के साथ दुव्र्यवहार न हो और दर्शन कर मंदिर से बाहर निकले तो वह संतुष्ट नजर आये। महाकाल मंदिर में साफ-सफाई का भी विशेष ध्यान दिया जाये।

उन्होंने बताया कि जिन वी.आई.पी. के साथ प्रोटेकॉल है, उन्हे ससम्मान महाकाल प्रवचन हॉल से प्रवेश देकर सूर्यमुखी मंदिर के पास से होते हुए काला गेट से नंदी हॉल के पीछे पहली रेलिंग से दर्शन करवाया जायेगा। इसी प्रकार 151 रूपये की रसीद लेने वाले भक्तों, पत्रकारों, पुजारी, पुरोहितों को मंदिर के मुख्य द्वार के समीप पुलिस चौकी के पास से प्रवेश दिया जायेगा, जो विश्रामधाम होते हुए मंदिर में प्रवेश करेंगे। इसी प्रकार सामान्य दर्शनार्थियों के लिए प्रवेश की व्यवस्था वर्तमान में है वही लागू रहेगी।

कलेक्टर ने निर्देश दिये कि महाकाल मंदिर में नंदीहॉल से भस्म आरती दर्शन की ऑनलाईन बुकिंग न की जाये। जिन महत्वपूर्ण व्यक्तियों के साथ प्रोटोकॉल है, उनका विशेष ध्यान रखा जाये। मंदिर में आने वाले दर्शनार्थियों के स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान दिया जायेगा। मंदिर के कंट्रोल रूम से अनाउन्समेंट निरंतर हो इसके लिए इन्वर्टर का क्रय करने के निर्देश कलेक्टर ने संबंधित अधिकारी को दिये।

महाकाल मंदिर के निरीक्षण के दौरान पं.प्रदीप गुरू ने बताया कि उनकी प्रेरणा से इंदौर के उद्योगपति हेमंत नेमा परिवारी की ओर से मंदिर के नंदी परिसर को फूलों से सजाया जायेगा। इसी तरह भगवान महाकाल पर इंदौर निवासी श्री सचिन राठौर (मिठास 24 के व्यापारी) द्वारा 56 भोग लगाया जायेगा। भोग प्रसादी का वितरण 31 दिसम्बर की रात्रि 1 तारीख की प्रात: होने वाली भस्मार्ती के पश्चात किया जायेगा। नये वर्ष में 1 जनवरी को महाकाल मंदिर में इंदौर का राजकमल बैण्ड प्रात: भजन संध्या की प्रस्तुति महाकाल को अर्पित करेंगे।

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>