Home मध्यप्रदेश हर तीन साल में अपडेट कराना होगा छोटे बच्चों का आधार कार्ड

हर तीन साल में अपडेट कराना होगा छोटे बच्चों का आधार कार्ड

54
0

 भोपाल/गुना। कैशलेस व्यवस्था के बाद जिन बच्चों ने पांच, 10 या 15 साल की उम्र पूरी कर ली है, उन्हें अपने आधार को उपयोगी बनाए रखने के लिए बायोमैट्रिक डेटा अपडेट कराना जरूरी होगा। ऐसा नहीं कराने पर उनके अन्य जरूरी कामों में तकनीकी अड़चन आ सकती है। यह काम ऑनलाइन नहीं हो सकता। इसके लिए अधिकृत एनरोलमेंट सेंटरों पर अपना डाटा अपडेट कराना जरूरी है।

दरअसल, कुछ प्रतियोगी परीक्षाओं में कई परीक्षार्थियों को इस परेशानी का सामना करना पड़ा था। इनसे कहा गया कि उनका आधार अपडेट नहीं है, इस वजह से वे यह परीक्षा नहीं दे सकते। बताया जाता है कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने इस बारे में नियम बनाए हैं। दस और पंद्रह साल की उम्र के बाद शारीरिक विकास होने पर बॉयोमैट्रिक डेटा बदलता है। पांच साल से छोटे बच्चों के फोटो ही लिए जाते हैं। उनकी अंगुलियों का स्कैन व आंखों का रेटिना नहीं आता। पांच साल के होने के बाद थम्ब इम्प्रेशन आते हैं। उम्र बढ़ने के साथ ये बदलते भी हैं।

यह प्रक्रिया अपनाएं यह काम ऑनलाइन नहीं हो सकता। इसके लिए आपको आधार के अधिकृत एनरोलमेंट सेंटरों पर ही जाना पड़ेगा। साथ में अपना ओरिजनल आधार कार्ड जरूर लेकर जाएं। वहां आपका बायोमैट्रिक डेटा यानी फिंगर प्रिंट और आइरिश स्कैन किया जाएगा। इसलिए भी अपडेट कराएं जिन्हें आधार नंबर मिल चुके हैं और उन्होंने किसी भी सरकारी योजना के लिए दो साल तक उसका इस्तेमाल नहीं किया है तो उन्हें भी बायोमैट्रिक डेटा अपडेट कराना जरूरी है। इतनी अवधि में यह काम नहीं कराया तो वह होल्ड पर चला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here