Home मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री ने किया लोक मंथन प्रदर्शनी का शुभारंभ

मुख्यमंत्री ने किया लोक मंथन प्रदर्शनी का शुभारंभ

63
0

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को राजधानी स्थित विधानसभा परिसर में १२ नवम्बर से शुरू हो रहे तीन दिवसीय “लोक मंथन” कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति और लोक जीवन में आनंद की बहुलता और अपनी परंपराओं से भावनात्मक लगाव है। पश्चिमीकरण की अंधभक्ति के कारण आधुनिक जीवन आनंद और जीवन्तता से विमुख हो गया है।

बता दें कि शनिवार, १२ नवम्बर से शुरू हो रहा लोक मंथन कार्यक्रम राज्य के संस्कृति विभाग, प्रज्ञा प्रवाह और भारत भवन के सहयोग से हो रहा है। लोक मंथन में “राष्ट्र सर्वोपरि” के दर्शन में विश्वास रखने वाले मूर्धन्य विचारक भाग ले रहे हैं।

प्रदर्शनी के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत एक महान एवं प्राचीन राष्ट्र है। पाँच हजार सालों का इसका ज्ञात इतिहास है। जब भारत की सभ्यता चरमोत्कर्ष पर थी तब कई राष्ट्रों का जन्म भी नहीं हुआ था। तक्षशिला और नालंदा जैसे विश्वविद्यालय यहाँ अस्तित्व में थे।

श्री चौहान ने कहा कि भारत की लोक संस्कृति की बुनावट परंपराओं एवं जीवन मूल्यों से हुई है। यह अदभुत, अनूठी और विविधतापूर्ण है। उन्होंने कहा कि दुनिया के विकसित देशों ने भौतिक प्रगति की लेकिन जीवन का आनंद खो बैठे। केवल पश्चिम की सोच, सभ्यता और संस्कृति का पालन करना गलत है। उन्होंने कहा कि भारतीय लोक जीवन सकारात्मकता और जीवन्तता से समृद्ध है। यह वर्तमान में विश्वास करता है। इसका अपना जीवन दर्शन है। अपनी जीवन दृष्टि है और उत्सवधर्मिता है। यहाँ मृत्यु का भी उत्सव मनाया जाता है।

श्री चौहान ने कहा कि च्लोक मंथनज् में जो विचार मंथन होगा उसे राज्य सरकार आगे बढ़ाने का काम करेगी। प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव ने लोक मंथन कार्यक्रम एवं प्रदर्शनी की अवधारणा की जानकारी दी।

विधानसभा अध्यक्ष सीतासरण शर्मा एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी धर्मपत्नी साधनासिंह ने वाग्देवी की प्रतिमा के समक्ष पारंपरिक कलश की स्थापना कर दीप प्रज्वलित किया और जनजातीय पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार तुलसी पूजा की। इस अवसर पर सांसद आलोक संजर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले, प्रज्ञा प्रवाह के सदानंद सप्रे उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री के सामने आया खुल्ले पैसे का संकट

प्रदर्शनी के शुभारंभ अवसर पर पारंपरिक अनुष्ठान के मुताबिक तुलसी पूजा की। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूजन में पैसे चढ़ाने के लिए अपनी जेब में हाथ डाला, तो उनके पास खुल्ले पैसे नहीं थे। तब वे इधर-उधर झांकने लगे, तो विधानसभा अध्यक्ष डॉ. शर्मा ने उन्हें अपनी जेब से सौ रुपए निकालकर मुख्यमंत्री को दिए। तब उन्होंने सौ रूपए पूजा में चढ़ाए।

क्या है अनूठी प्रदर्शनी में ?

च्च्लोकमंथनज्ज् के आयोजन स्थल विधानसभा परिसर में लगाई गई प्रदर्शनी कई अर्थों में अनोखी है। प्रदर्शनी को भारतीय परम्परा, संस्कृति, पर्यावरण, कला और जनजातीय जीवन के प्रतिबिम्ब के रूप में तैयार किया गया है। यह प्रदर्शनी आम लोगों के लिये तीनों दिन खुली रहेगी।

प्रदर्शनी पुरुष (मानव), प्रकृति और भारतीय परम्परा की त्रिवेणी है। प्रदर्शनी स्थल को आठ भागों में विभाजित किया गया है। मध्य में ब्रम्ह स्थान है, पानी के बीच में कमल खिले हुए हैं। प्रदर्शनी में चित्रों के साथ जनजातीय परम्परा, कला और संस्कृति को भी दर्शाया गया है। स्थल पर प्रवेश करते ही अर्श का भाग है, जिसमें सनातन संस्कृति से जुड़े हुए चित्रों को प्रदर्शित किया गया है।

दूसरे हिस्से में शब्द पर केन्द्रित चित्र हैं। शब्दों का महत्व दर्शाया गया है। तीसरा हिस्सा स्थापना का है, जिमसें धर्म, विज्ञान, संस्कृति और अन्य विषयों को समझाया गया है। चौथा भाग उत्सव पर केन्द्रित है। जीवन में उत्सव की परम्परा को भी यहाँ प्रदर्शित किया गया है, जिसमें जन्मोत्सव से लेकर मृत्यु तक की यात्रा का विवरण है। पाँचवें भाग में शौर्य को जीवन की रक्षा के लिए महत्वपूर्ण बताया गया है। छठवाँ हिस्सा विसर्जन का है। लोक परम्परा शिल्प में नर्मदा नदी की उत्पत्ति से सम्बन्धित कहानी को चित्र के रूप में दर्शाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here