अगले दो-तीन साल आर्थिक सुधारों के लिए बेहद अहम
By dsp On 19 Jun, 2015 At 05:46 PM | Categorized As व्यापार | With 0 Comments

19_06_2015-19arun1aन्यूयॉर्क। वित्त मंत्री अरुण जेटली मानते हैं कि अगले दो से तीन साल बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि सरकार कई सुधार संबंधी कदमों को लागू करने की योजना पर काम कर रही है। इन सुधारों की बदौलत मौजूदा सात से साढ़े सात फीसद की आर्थिक विकास दर से अधिक रफ्तार हासिल करने में मदद मिलेगी। जेटली बोले, ‘भारत में न तो सरकार, न जनता और न ही उद्योग सात से साढ़े सात फीसद आर्थिक विकास दर को लेकर बहुत उत्साहित है क्योंकि प्रधानमंत्री समेत हर किसी को लगता है कि हमारी क्षमता शायद इससे कहीं ज्यादा रफ्तार से तरक्की करने की है।’ थिंक टैंक काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस की ओर से आयोजित इंवेस्टमेंट फर्म वारबर्ग पिंकस के प्रेसीडेंट और अमेरिका के पूर्व वित्त मंत्री टिमोथी गेटनर के साथ परिचर्चा में जेटली ने कहा कि उनकी सरकार ने एक साल के कार्यकाल में काफी फासला तय किया है। इसके बाद अगले दो-तीन साल विभिन्न सुधार कार्यक्रमों के कारण बहुत अहम साबित होंगे। फिलहाल इन सुधारों की प्रक्रिया चल रही है। रेट्रोस्पेक्टिव फैसले नहीं स्वीकार्य पिछली तारीख से प्रभावी (रेट्रोस्पेक्टिव) निर्णयों पर अमेरिकी व्यवसायियों और निवेशकों की चिंता दूर करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ऐसा कोई भी फैसला स्वीकार नहीं किया जाएगा जो रेट्रोस्पेक्टिव होने के साथ नई देनदारी खड़ी करने वाला हो। जब से मौजूदा सरकार बनी है तभी से कहा जाता रहा है कि यह सरकार ऐसा कानून नहीं बनाएगी जो पिछली तारीख से लागू होगा। सरकार में जब नहीं थे तब भी हम यही बात कहते थे। आज भी अपनी बात पर कायम हैं। जेटली की यह प्रतिक्रिया तब आई जब एक कारोबारी ने उनसे कहा कि उनमें से कइयों ने भारत में कारोबार किया है। उन्हें सरकार या आरबीआइ की ओर से पिछली तारीख से बदले गए कुछ निवेश नियमों का सामना करना पड़ा है। निवेश को लेकर बदलते माहौल को देखते हुए इस संबंध में रोशनी डालें। – See more at: http://www.jagran.com/news/business-next-23-years-very-critical-for-economic-reforms-jaitley-12498360.html#sthash.MJ9dh0Rw.dpuf

Leave a comment

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>